अब पेयजल संकट पर भाजपा ने केजरीवाल को घेरा

नई दिल्ली: भीषण गर्मी के बीच दिल्ली के कई इलाकों में पानी की किल्लत को लेकर बीजेपी ने दिल्ली सरकार और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर सवाल उठाए हैं। दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी का कहना है कि दिल्ली के कई इलाकों में या तो पानी आ ही नहीं रहा है और अगर आ भी रहा है, तो वह इतना अधिक दूषित और बदबूदार है कि लोग उसका इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं।

तिवारी ने मुख्यमंत्री पर भी निशाना साधते हुए कहा कि अरविंद केजरीवाल के पास दिल्ली जल बोर्ड के रूप में केवल एक ही विभाग है, लेकिन उसे भी वह ठीक से नहीं चला पा रहे हैं। दिल्ली पर टैंकर माफिया का कब्जा है। उनकी मर्जी के मुताबिक ही टैंकरों से पानी की सप्लाई होती है। कहीं तो पानी बेचा जा रहा है और कहीं पर कई-कई दिनों तक पानी नहीं मिल रहा है, मगर सरकार को इसकी जरा भी परवाह नहीं है। बिजली हाफ, पानी माफ के नारे के साथ सत्ता में आए केजरीवाल दिल्लीवालों को बूंद-बूंद पानी के लिए तरसा रहे हैं।

तिवारी के मुताबिक, बढ़ती गर्मी के कारण दिल्ली में पानी की डिमांड बढ़ती जा रही है, जिसे पूरा करने में केजरीवाल सरकार विफल साबित हुई है। इस साल तो समर एक्शन प्लान बनाने को लेकर भी सरकार ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई। एक तरफ लीकेज की वजह से लाखों लीटर पानी बर्बाद हो रहा है, दूसरी तरफ पानी को लेकर लोग संघर्ष करते नजर आ रहे हैं। केजरीवाल दिल्ली में घूम-घूम कर अपनी सक्रियता दिखाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पानी की समस्या का समाधान नहीं कर पा रहे हैं।

तिवारी ने बताया कि दिल्ली की 849 अनधिकृत कॉलोनियों में पानी की सप्लाई नहीं की जा रही है और 147 कॉलोनियों में पानी की पाइपलाइन तक नहीं बिछाई गई है, क्योंकि दिल्ली सरकार की ओर से अभी तक दिल्ली जल बोर्ड को एनओसी नहीं दी गई है। ऐसे में इन इलाकों में रह रहे लाखों लोगों को टैंकरों पर निर्भर रहना पड़ रहा है और टैंकर माफिया उसका पूरा फायदा उठा रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper