अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा के लिए मांगे 22 हजार अतिरिक्त जवान

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर सरकार ने अमरनाथ यात्रा के लिए 22 हजार अतिरिक्त जवानों की मांग की है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक आतंकी अमरनाथ यात्रा को निशाने पर लेने की फिराक में हैं। राज्य पुलिस का कहना है कि घाटी में 200 आतंकी सक्रिय हैं और वे इस तरह के आयोजनों को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं। लिहाजा केंद्र सरकार स्थिति की गंभीरता को देखते हुए 225 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां राज्य में तैनात करे।

एक कंपनी में सौ जवान नियुक्त होते हैं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में जम्मू-कश्मीर की दो दिवसीय यात्रा के दौरान सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया था। उन्हें बताया गया था कि आतंकी हमला करने के लिए वक्त का इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने अमरनाथ यात्रा के सुरक्षा इंतजामों का जायजा भी लिया था। उन्हें बताया गया था कि सुरक्षा व्यवस्था को बहुचक्रीय बनाने पर इस बार काम किया जा रहा है। राज्य पुलिस की योजना इस बार 40 हजार जवानों को तैनात करने की है। पिछले साल अमरनाथ की पवित्र गुफा के दर्शन के लिए करीब 2.60 लाख श्रद्धालु आए थे।

पिछले साल यात्रियों की सुरक्षा को 35 हजार जवान तैनात किए गए थे। यात्रा रूट पर जो रिहर्सल होगी उसमें डॉग स्क्वॉड के साथ त्वरित कार्यबल प्रमुखता से शामिल होगा। रूट की उपग्रह से निगरानी की जाएगी तो जैमर व सीसीटीवी की भी सहायता ली जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper