अर्थव्यवस्ता को हुए नुकसान पर ध्यान दे सरकारः शरद पवार

मुंबई: NCP सुप्रीमो शरद पवार ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि हमें ये फैसला करना होगा क्या ज्यादा जरूरी है. कोरोना को खत्म करने के लिए सरकार को काम करना चाहिए. यही उसकी प्राथमिकता में होना चाहिए.

शरद पवार ने कहा कि कुछ लोग सोचते हैं कि राम मंदिर बनाने से कोरोना खत्म हो जाएगा. फिलहाल सरकार लॉकडाउन से अर्थव्यवस्ता को हुए नुकसान पर ध्यान दे. अर्थव्यवस्था की हालत बिगड़ती जा रही है.

शरद पवार का बयान ऐसे वक्त पर आया है, जब चर्चा है कि पीएम मोदी अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में शामिल हो सकते हैं. शनिवार को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक हुई थी. इस बैठक में इस पर चर्चा की गई कि भूमि पूजन की तारीख क्या हो.

चर्चा ये भी है कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से 3 अगस्त और 5 अगस्त की तारीख भेजी गई है. हालांकि सूत्रों ने कहा है कि प्रधानमंत्री 5 अगस्त को अयोध्या जा सकते हैं. अभी इस तारीख की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है.

न्यास और विहिप के सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री कार्यालय से ही फाइनल प्रोग्राम आना है, लेकिन तैयारियां जारी हैं. प्रस्तावित कार्यक्रम के मुताबिक 5 अगस्त को सुबह 8 बजे से 12 बजे तक के शुभ मुहूर्त में भूमिपूजन कार्यक्रम होगा.

वैसे सरकार और राजनेताओं के लिए 5 अगस्त का दूसरा महत्व भी है. इसी दिन 2019 में जम्मू कश्मीर में घारा- 370 को निष्प्रभावी कर वहां की स्थिति में प्रशासनिक बदलाव की शुरुआत हुई थी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper