आप ने लगाया बीजेपी पर लगाया बड़े स्तर पर जमीन घोटाले का आरोप

दिल्ली ब्यूरो: आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया है। बड़े स्तर पर जमीन घोटाले के इस आरोप से बीजेपी की परेशानी बढ़ गयी है। बता दें कि पेट्रोल-डीजल बढ़ती कीमतों के खिलाफ पहले से ही आम आदमी पार्टी मोदी सरकार पर हमलावर है। ऐसे में पार्टी ने भाजपा पर बड़ा हमला बोलते हुए जांच एजेंसियों को भी आड़े हाथ लिया है।

आप आदमी पार्टी ने भाजपा पर बिल्डरों को मुफ्त में जमीन देने का गंभीर आरोप लगाया है। आप ने ट्विटर पोस्ट शेयर कर कहा कि भाजपा ने बिल्डरों को मुफ़्त में जमीन दे दी, दिल्ली नगर निगम को 110 करोड़ का भुगतान भी कर दिया लेकिन सफाई कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं!

आप ने जांच एजेंसियों पर भी सवाल खड़े किये हैं। पार्टी ने कहा है कि इतना बड़ा जमीं घोटाला होने के बाद भी तमाम जान एजेंसियां मौन साधे बैठी है। आप ने कहा है कि अब सीबीआई , एसीबी , एलजी साहब, आईएएस असोसिएशन इत्यादि सब कहाँ है?
कोई इसका संज्ञान क्यों नहीं ले रहा??

आप ने खैबर पास जमीन घोटाले को लेकर अबतक का सबसे बड़ा जमीन घोटाला का आरोप बीजेपी पर लगाया है। आप ने एलजी पर निशाना साधते हुए उनकी भूमिका पर भी सवाल खड़े किए है। आप ने तमाम सवालों का जबाव मांगा है। आप ने बीजेपी से पूछा है कि 15000 करोड़ लागत की 95एकड़ जमीन प्राइवेट बिल्डर को क्यों दी गई। क्या इस घोटाले की जानकारी बीजेपी नेताऔर एलजी को थी ?एलजी , चीफ सेक्रेटरी और बीजेपी नेता बताएं कि ये जमीन किसकी है ?जिस अफसर ने इस घोटाले का विरोध किया उसका ट्रांसफर क्यों किया गया ?

आप के इन सवालों के बाद बीजेपी मौन हो गयी है। कोई भी कुछ बोलने से कतरा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper