इस पूरी प्रक्रिया से गुजर कर वतन पहुंचेंगे विंग कमांडर अभिनंदन, आप भी जानें

पाकिस्तान से भारतीय एयर फोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है। अभिनंदन को अटारी बॉर्डर से भारत लाया जाएगा। ऐसे में आपके मन में भी यह सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर पाकिस्तान में बंदी बनाए गए भारतीय नागरिक की कैसे रिहाई की जाती है। तो आइए जानते हैं क्या है किसी भी भारतीय को भारत लाने की प्रक्रिया…।

गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद अभिनंदन को रिहा करने का ऐलान करते हुए कहा था कि अभिनंदन को शुक्रवार को रिहा कर दिया जाएगा। पहले बताया जा रहा था कि अभिनंदन को सुबह 10 बजे के करीब भारत लाया जाएगा, लेकिन अब इसमें बदलाव किया गया है. ताजा जानकारी के अनुसार उन्हें 3 बजे से 4 बजे के बीच भारत लाया जाएगा।

Image result for wing commander abhinandan

सबसे पहले अभिनंदन को पाकिस्तान में इंटरनेशनल कमेटी ऑफ रेड क्रॉस (को) को सौंपा जाएगा और उसके बाद उन्हें भारत लाया जा सकेगा। बताया जा रहा है कि उन्हें वाघा बॉर्डर से भारत लाया जाएगा। एसओपी के नियमों के अनुसार, भारतीय पायलट को सेना की ओर से वाघा बॉर्डर लाया जाएगा। उसके बाद उन्हें वाघा बॉर्डर पर नागरिक अधिकारियों और भारतीय उच्चायोग के प्रतिनिधि को सौंप दिया जाएगा। उसके बाद वे उन्हें भारतीय सीमा सुरक्षा (बीएसएफ) को सौंप देंगे।

आईसीआरसी 1949 जेनेवा संधि और इसके अतिरिक्त प्रोटोकॉल, अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस और रेड क्रीसेंट मूवमेंट आदि के कानून के अधीन काम करता है। इन नियमों के अनुसार, युद्धबंदियों को बिना कोई देर किए उनके वतन भेजना होता है। इससे पहले कारगिल युद्ध के दौरान भी भारतीय पायलट नचिकेता का फाइटर प्लेन बंद हो गया था और पाकिस्तान के इलाके में जा गिरा था। पाकिस्तानी आर्मी ने उन्हें कैद में ले लिया था। उसके बाद भारत सरकार के प्रयासों के बाद नचिकेता को रेड क्रॉस को सौंप दिया गया, 8 दिन बाद उन्हें (नचिकेता) वापस भारत लाया गया. उन्हें अटारी बॉर्डर के रास्ते भारत लाया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper