उत्तरी कोरियाई शासक लीबियाई माडल से आतंकित क्यों?

वाशिंगटन: उत्तरी कोरिया ने लीबियाई माडल का उल्लेख कर शिखर वार्ता को रद्द किए जाने की चेतावनी क्यों दी ? वह इससे आतंकित क्यों है? यह लीबियाई माडल है क्या? लीबियाई माडल बनाने वाले अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जान बोलटन ने पिछले सप्ताह इस माडल का उल्लेख करते हुए कहा था कि उत्तरी कोरिया पूर्ण निशास्त्रिकरण के लिए आगे बढ़ता है, तो बदले में अमेरिका उसे आर्थिक विकास का पूरा भरोसा दिला सकता है। उन्होंने यह भी कहा था कि निश्स्त्रिकरण के बिना उत्तरी कोरिया भी दक्षिण कोरिया की तरह विकास के पथ पर बढ़ सकता है। इस बयान पर उत्तरी कोरियाई विदेश मंत्रालय में वायस मिनिस्टर ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए चेतावनी दी थी।

जान बोलटन आज से 15 साल पहले तत्कालीन राष्ट्रपति जार्ज बुश के भी सुरक्षा सलाहकार थे।इराक़ युध के बाद जार्ज बुश ने पश्चमी देशों के सहयोग से लीबियाई शासक कर्नल मुहम्मार क़द्दाफ़ी को यह प्रस्ताव प्रेषित किया था। प्रस्ताव में कहा गया था कि कर्नल क़द्दाफ़ी अपने आणविक हथियार कार्यक्रम त्याग दें, तो उनके देश के आर्थिक विकास के लिए अमेरिका उचित क़दम उठा सकता है। इसके ठीक एक साल पहले सन 2003 में इराक़ पर अमेरिकी युध की विभीषिका को क़द्दाफ़ी देख चुका था। क़द्दाफ़ी को यह प्रस्ताव अच्छा लगा।

क़द्दाफ़ी ने पाकिस्तान के आणविक कार्यक्रम प्रमुख ए क्यू खान से जो उपकरण और टिप्स लिए थे, अमेरिका को समर्पित कर दिए। उत्तरी कोरिया और ईरान भी ए क्यू खान के मुरीद थे और उन्होंने ये सभी उपकरण जुटाए थे। बुश ने इन दोनों ही देशों से आणविक हथियार कार्यक्रम बंद किए जाने का आग्रह किया था। बुश ने ए क्यू खान को उनके घर में बंदी बना लिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper