कैशियर हत्याकांड में सीएम योगी सख्त, एसएसपी कलानिधि को जमकर लगाई फटकार

लखनऊः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में लगातार बढ़ रहे अपराध पर सख्त होते हुए जिले के सभी एसएसपी को फटकार लगाई है। योगी ने बीते दिनों लखनऊ के विभूतिखंड में दिनदहाड़े हुई कैशियर की मौत पर भी कड़ी नाराजगी जताई।

योगी ने कैशियर की मौत मामले में लखनऊ एसएसपी कलानिधि नैथानी से सवाल किया कि अब तक इस मामले की जांच कहां तक पहुंची है। जिसपर एसएसपी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। इसके साथ ही योगी ने कहा कि 15 सिपाहियों को छुट्टी देने वाले विभूतिखंड थाने के इंस्पेक्टर मथुरा राय को अभी तक निलंबित क्यों नहीं किया गया? योगी की फटकार के घंटे भर के अंदर एसएसपी ने विभूतिखंड के निवर्तमान इंस्पेक्टर मथुरा राय को निलंबित करने का आदेश जारी कर दिया।

सीएम ने वारदात का खुलासा न होने पर बृहस्पतिवार शाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में एसएसपी से नाराजगी जताई। कार्रवाई के बारे में पूछने पर एसएसपी ने बताया कि खूनी लुटेरों की कई जगह सीसीटीवी कैमरों में फोटो मिली है, जिसकी मदद से रूट चार्ट बनाया जा रहा है। पुलिस की 12 टीमें लगी हैं। कई टीमें गैर जनपद रवाना की गई हैं। 50 से अधिक बदमाशों की भूमिका खंगालने के साथ ही जेल में बंद अपराधियों से संपर्क किया गया है। जमानत पर छूटे अपराधियों के बारे में जानकारी ली जा रही है।

हालांकि, मुख्यमंत्री इन बातों से संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने एक साथ 15 सिपाहियों को छुट्टी देने वाले विभूतिखंड थाने के इंस्पेक्टर मथुरा राय के खिलाफ कार्रवाई न होने पर भी एसएसपी से जवाब तलब किया। एसएसपी ने विभागीय जांच कराने की बात कही तो मुख्यमंत्री ने कहा कि इंस्पेक्टर को निलंबित क्यों नहीं किया गया? एसएसपी इस बात का कोई जवाब नहीं दे सके।

यात्रीगण कृपया ध्यान दें! चारबाग रेलवे स्टेशन से 13 नवम्बर से चलेगी बाघ एक्सप्रेस

कैशियर हत्या व लूटकांड में विभूतिखंड के पूर्व इंस्पेक्टर मथुरा राय की मुश्किलें बढ़ गई हैं। वारदात के वक्त थाना में मौजूद होने के बाद भी वह घटनास्थल क्यों नहीं गए? अधिकारी इस बात पर भी आश्चर्य कर रहे हैं कि सब जानने के बावजूद इंस्पेक्टर के खिलाफ एसएसपी ने कार्रवाई क्यों नहीं की। मालूम हो कि इंस्पेक्टर मथुरा राय से रविवार रात विभूतिखंड थाना का चार्ज छीनकर एसएसपी ने उन्हें क्राइम ब्रांच भेज दिया था। हालांकि, सोमवार सुबह तक उन्होंने चार्ज नहीं छोड़ा था।

सुबह साढ़े दस बजे के आसपास जब हत्या व लूटकांड हुआ था, इंस्पेक्टर मथुरा राय थाने में मौजूद रहकर लिखापढ़ी के कुछ काम निपटा रहे थे। हत्या व लूट की जानकारी के बाद भी उन्होंने घटनास्थल जाना जरूरी नहीं समझा और वारदात के करीब एक घंटे बाद थाना की जनरल डायरी में रपट संख्या 35 में 11.24 बजे अपनी रवानगी करा ली थी। राजधानी पुलिस को इस बात की जानकारी थी, इसके बावजूद अधिकारी इंस्पेक्टर को बचाने में जुटे रहे। मुख्यमंत्री के सामने हुई फजीहत के बाद उसे निलंबित किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper