गुनहगारों ने जेल में कमाए थे हजारों रुपए, जानिए किसे सौंपी जाएगी ये रकम

नई दिल्ली: निर्भया गैंगरपे और हत्या के मामले के चारों दोषियों को शुक्रवार की सुबह तिहाड़ जेल में फांसी पर लटका दिया गया। फांसी दिए जाने के आधे घंटे बाद डॉक्टर ने चारों दोषियों की नब्ज देखी और फिर मृत घोषित किया। दोषियों ने अंतिम क्षण तक अपनी मौत की सजा को टालने की हरसंभव कोशिश की और गुरुवार आधी रात से लेकर शुक्रवार तड़के तक हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक गुहार लगाते रहे लेकिन उनकी एक भी नहीं चली।

इस मामले के चारों दोषियों- मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय कुमार सिंह ने फांसी पर लटकने से पहले ने जेल में रहने के दौरान हजारों रुपये की कमाई भी की थी जिसे अब उनके परिजनों को सौंप दिया जाएगा। चार में से तीन दोषियों ने कारावास की अवधि के दौरान कुल 1,37,000 रुपये की कमाई की, जबकि चौथे दोषी ने काम नहीं करने का फैसला किया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोषी अक्षय ठाकुर ने जेल में मजदूरी करके 69,000 रुपये कमाए जबकि पवन गुप्ता ने 29,000 रुपये कमाए और दोषी विनय शर्मा ने 39,000 रुपये कमाए। चौथे आरोपी मुकेश कुमार ने जेल में किसी भी काम में शामिल नहीं होने का फैसला किया था और काम करने से इंकार कर दिया था। निर्भया के चारों दोषियों ने फांसी पर लटकने से पहले कोई अंतिम इच्छा जाहिर नहीं की थी।

खबरों की मानें तो दोषियों की ओर से जेल में कमाए गए पैसे और उनका सामान तथा कपड़े उनके परिजनों को सौंप दिए जाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper