चित्रा मुद्गल को झोली में साहित्य अकादमी सम्मान

बहुचर्चित लेखिका चित्रा मुद्गल को वर्ष 2018 के प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। यह पुरस्कार उन्हें उनकी कृति ‘पोस्ट बॉक्स नंबर 203-नाला सोपारा’ के लिए मिला है। चित्रा मुद्गल आधुनिक हिंदी की सर्वाधिक पठनीय लेखकों में से एक हैं। उनका जन्म 10 सितम्बर 1944 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ था। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में स्थित पैतृक गांव निहाली खेड़ा और उच्च शिक्षा मुंबई यूनिवर्सिटी में हुई।

चित्रा मुद्गल की पहली कहानी स्त्री-पुरुष संबंधों पर थी, जो 1955 में प्रकाशित हुई। उनके अब तक 13 कहानी संग्रह, तीन उपन्यास, तीन बाल उपन्यास, चार बाल कथा संग्रह, पांच संपादित पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। बहुचॢचत उपन्यास ‘आवां’ के लिए उन्हें व्यास सम्मान से भी नवाजा जा चुका है। इसके अलावा उन्हें इंदु शर्मा कथा सम्मान, साहित्य भूषण, वीर सिंह देव सम्मान मिल चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper