‘जग जननी माँ वैष्णोदेवी के कलाकारों ने किया लखनऊ का दौरा

लखनऊ: स्टार भारत ने हाल ही में अपना दूसरा सबसे बड़ा माइथो शो लॉन्च किया है, जिसका नाम है ‘जग जननी माँ वैष्णो देवी – कहानी माता रानी की’। रश्मि शर्मा टेलीफ़िल्म्ज़ द्वारा इस शो को प्रोड्यूस किया गया है। इसमें होगी माँ वैष्णो देवी की अनकही कहानी, अर्थात् कैसे वह एक नन्ही वैष्णवी से माँ वैष्णो देवी बन गईं, जिन्हें अब सम्पूर्ण सृष्टि की माँ कहा जाता है। दर्शकों के लिए यह शो हर सप्ताह सोमवार से शनिवार रात 9. 30 बजे, सिर्फ़ स्टार भारत पर प्रसारित किया जाता है।

‘जग जननी माँ वैष्णो देवी – कहानी माता रानी की’ यह कथा पुराणों से जुड़ी है। यह कहानी देवासुर संग्राम के अंत के बाद शुरू हुई। यह सबसे बड़ी लड़ाई थी, जिसमें असुर धरती पर एक सुरक्षित स्वर्ग की कामना कर रहे थे, तो वहीं परेशान भू-देवी भगवान विष्णु से मदद माँग रही थीं। ऐसे में यह बात जब महादेव तक पहुँची, तो उनके पास पृथ्वी को इस परेशानी से बाहर निकालने का केवल एक ही हल था। अब माँ लक्ष्मी, माँ काली और माँ सरस्वती, एक साथ आगे आकर भगवान शिव से यह कहती हैं, कि यदि वे तीनों देवियाँ एक हो जाती हैं, तो वे साथ मिलकर अपने तेज से एक ऐसी ऊर्जा को जन्म देंगी, जो धरती पर मानव जाति की रक्षा करेगी और आने वाले सभी संकटों से धरती को बचाएगी।इस प्रकार हुआ ‘माँ वैष्णो’ (विष्णु की शक्ति) का धरती पर आगमन, जिन्होंने राजा रत्नाकर सागर की बेटी के रूप में जन्म लिया।

यह पौराणिक नाट्य श्रृंखला यह बताती है, कि किस तरह माँ वैष्णो देवी ने अपने बालपन में ही, आत्मा को कष्ट देने वाली… तड़प, भूख और दरिद्रता जैसी समस्याओं से जूझते हुए लोगों का जीवन बदल दिया और किस प्रकार वह जैसे-जैसे बड़ी होती जाती हैं, अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए हर लड़ाई का सामना करती जाती हैं तथा किस प्रकार वह धरती पर होने वाले हर पाप का नाश करती हैं, न कि पापी का।

शो में माँ लक्ष्मी का किरदार निभा रही मदिराक्षी मुंडले ने बताया, “यह किरदार मेरे दिल के बहुत ज़्यादा क़रीब है. मैं ख़ुद को बहुत लकी समझती हूँ, कि भक्त जिस देवी की इतनी आराधना करते हैं, मुझे उन्हीं का किरदार निभाने का मौक़ा मिला। सबसे पहले तो, यह शो टिपिकल सास-बहू शो नहीं है. इस किरदार के लिए बहुत तैयारी की ज़रूरत है, जिसके लिए मैंने बहुत रिसर्च की और साथ ही कई वर्कशॉप भी अटेंड करी हैं।” लखनऊ के बारे में बताते हुए मदिराक्षी ने कहा, “यह शहर बहुत अदब वाला है, जो मुझे यहाँ के लोगों में दिखाई भी दिया। यहाँ के ज़ायक़े का तो जवाब ही नहीं, मैं अपनी उंगलियाँ चाटती रह गई।“

शो में माँ काली का किरदार निभा रही इशिता गाँगुली ने बताया, “एक बंगाली होने के नाते हमारे कोलकाता में देवी जी की बहुत आराधना की जाती है, साथ ही मुझे इस शो में काली माँ बनने का मौक़ा मिला, जो मेरे लिए सौभाग्य की बात है। कई पहलुओं पर मेरे किरदार से इस शो की कहानी आगे बढ़ रही है। मैंने अपने किरदार के लिए भरपूर तैयारी की, जिसमें मैंने संस्कृत और हिंदी भी सीखी और कई किताबें भी पढ़ी हैं, ताकि भाषा पर मेरी पकड़ मज़बूत हो ।“

इशिता ने अपनी लखनऊ विज़िट पर बात करते हुए कहा, “हम यहाँ अपने शो का प्रमोशन करने आए हैं। मुझे यहाँ अपने फ़ैन्ज़ से भरपूर प्यार मिला जो बहुत सराहनीय है। इसके अलावा यहाँ का नवाबी अंदाज़ मुझे ख़ूब भा गया। मैंने यहाँ शॉपिंग भी की और अपने लिए और अपनी दोस्तों के लिए चिकन की कुर्ती भी ख़रीदी। साथ ही यहाँ का लाजवाब नवाबी ज़ायक़े का लुत्फ़ भी लिया, जिसका स्वाद अब भी ज़बान पर है। मैं विश करती हूँ कि मैं दोबारा इस शहर का दौरा कर सकूँ।“

इस शो में विराट, भव्य सेट और वेशभूषा को बहुत निखारकर दर्शकों के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा। इसमें कई बड़े कलाकारों का भी समावेश है। इस कहानी में ऋषिकेश पांडे ने राजा रत्नाकर, यानी देवी वैष्णवी के पिता का किरदार निभाया है, जबकि देवी वैष्णवी की माँ का किरदार तोरल रासपुत्र ने निभाया है, और माँ लक्ष्मी के रूप में अभिनेत्री मदिराक्षी मुंडले और माँ काली के रूप में इशिता गांगुली दिखाई दे रही हैं।वहीं मायशा दीक्षित युवा वैष्णो देवी के रूप में दर्शकों का दिल जीत रही हैं। कलाकारों की इस टुकड़ी में और भी नाम शामिल हैं, जिनमें विकास वर्मा, मनीषा रावत, प्रतीका चौहान, प्रीत कौर नायक, विजय बदलानी, आरव चौधरी, शरद गोरे, कपिल आर्या, विकास सालगोत्र, शैलेश गुलबानी आदि कलाकार भी अहम किरदार में नज़र आ रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper