दुनिया की सबसे रोमांटिक जगह, टनल ऑफ़ लव!

आज हम आपको दिखाते हैं एक ऐसी जगह की झलक जिसको देखने के बाद हर कपल वहां जाने की सोचेगा. यह जगह कहलाती है टनल ऑफ़ लव. यह टनल Ukraine के शहर Klevan से 7 किलोमीटर आगे स्थित है। यह 3 किलोमीटर का एक प्राइवेट रेलवे ट्रैक है जो की पेड़ो से इस तरीके से ढका हुआ है कि यह एक टनल लगता है।

टनल ऑफ़ लव लकड़ी के काम के लिए एक औद्योगिक ट्रैक है। रेलवे के निर्माण के दौरान, सैन्य हार्डवेयर के परिवहन को छिपाने के लिए ट्रैक के दोनों किनारों पर पेड़ों को जानबूझ कर लगाया गया था। पिछले कई सालों से, यहां से ट्रेनें फैक्ट्री को लकड़ी देने के उद्देश्य से गुजर रही हैं जो पश्चिम यूरोपीय बाजार के लिए प्लाईवुड का उत्पादन करती है। यह रेलवे ट्रैक 5 किलोमीटर लम्बा है और हरी भरी मेहराब और पेड़ों से घिरा हुआ है। यह ट्रैक एक फायर बोर्ड फैक्ट्री का है। एक ट्रेन दिन में 3 बार उस फैक्ट्री को वुड सप्लाई करती है, बाकि टाइम ये ट्रैक कपल्स और नेचर लविंग लोगो के काम आता है।

पेड़ों की यह प्रकृति ट्रैक के चारों ओर स्वतंत्र रूप से उगाई गई है. कुछ साल पहले फैक्ट्री वालों ने पेड़ों को काटने की कोशिश की थी ताकि ट्रैन आराम से उस ट्रैक से गुज़र सके पर लोगों के मना करने पर 2013 के बाद से इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है ।यह सुरंग जोड़ों और नवविवाहितों के बीच लंबे टहलने और फोटोशूट के लिए लोकप्रिय है। सुरंग का उपयोग उन जोड़ों द्वारा भी किया जाता है जो अपनी इच्छाएं पूरी करना चाहते हैं।

टनल ऑफ़ लव साल में 3 बार अपना रंग बदलती है। जब बसंत आता है टनल ऑफ़ लव पूरी हरी हो जाती है तब ये जगह जन्नत नज़र आती है। गर्मियों में ये टनल हल्की भूरी होजाती है। सर्दिया आते ही ये टनल सफ़ेद बर्फ की चादर ओढ़ लती है। कपल्स में लोकप्रिय होने के कारण इसे Tunnel of Love कहा जाता है। कपल्स यहाँ आ कर रोमांटिक फोटो खिचवाना पसंद करते है। कहा जाता है यहाँ जो भी कपल इस टनल से गुज़रता है उसकी मांगी गयी हर विश जरुर पूरी होती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper