नागिन के श्राप से बचने के लिए लोग घरों में नहीं लगाते दरवाजे

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में जहां शनिदेव की शिला स्थापित है, उस गांव शिगणापुर में लोग घरों में ताले नहीं लगाते क्योंकि शनिदेव की कृपा से इस गांव में कोई चोरी नहीं करता। इसी तरह उत्तर प्रदेश में भी एक गांव है जहां लोग घरों में दरवाजे ही नहीं लगवाते। यहां ऐसा शनिदेव की कृपा के कारण नहीं बल्कि हजारों साल पहले मिला एक नागिन के श्राप के कारण होता है। गांव का नाम प्रतापगढ़ है। ग्रामीणों का मानना है कि उनके पूर्वजों के समय दरवाजा बंद करते समय एक नागिन का बच्चा दरवाजे और चौखट के बीच दबकर मर गया तो नागिन ने इस कुल को ही श्राप दे दिया कि अगर इस कुल के लोग घरों में दरवाजा लगाएंगे तो इनके वंश का विनाश हो जाएगा और धन संपत्ति की भी हानि होगी।

सात आठ पीढ़ी पहले यहां बसे इनके पुरखों ने इन्हें ये सीख दी और आज ये परम्परा की तरह इसका निर्वहन कर रहे हैं। मूलत ये परिवार कई वर्षों पहले बस्ती के बालेडीहा मिश्रा परिवार के ब्राह्मण हैं। उसी परिवार के कुछ परिवार प्रतापगढ़ में आकर बसे लेकिन दरवाजा ना लगाने की रीति को यहां भी जारी रखी। इनका तर्क ये भी है कि इस कुल के कुछ लोग अपने घर में दरवाजा लगाए तो कोई न कोई अनहोनी जरूर हुई है। किसी का पुत्र असमय मौत का शिकार हुआ तो किसी का भाई और किसी का पिता। इतना ही नहीं, दरवाजा उखाड़ फेंकने के बाद फिर सब कुछ सामान्य हो गया।

इसे भी पढ़िए: कांग्रेस के इतिहास का अद्भुत दिन, सोनिया ने अपने बेटे को सौंपी पार्टी की बागडोर

बता दें, ये हालत है प्रतापगढ़ जिले के पट्टी कोतवाली के सुडामऊ गांव के सभी घरों में ये समानता देखने को मिलती है कि उनमें दरवाजे नहीं हैं। इस गांव में कच्चे, पक्के और झोपड़े हर तरह के तकरीबन सैकड़ों घर हैं। ग्रामीण निशाकान्त मिश्रा ने कहा कि ये बाकी लोगों के लिए चौंकाने वाली बात हो सकती है, लेकिन हमारे लिए ये एक परंपरा बन चुकी है। हम दशकों से बिना दरवाजों के घरों में रह रहे हैं। गांव में पढ़े लिखे ब्राह्मणों कि आबादी है। जिसमे कोई डॉक्टर, इंजीनियर है तो कोई अधिवक्ता या प्रवक्ता है। ग्रामीण रामचंद्र मिश्रा का कहना है कि आज तक गांव में चोरी डकैती की कोई घटना नहीं हुई है। हमारे घरों की रक्षा नागदेवता करते है इसीलिए हम अपने घरों की चिंता नहीं करते।

इस मामले पर पीयूष कान्त शर्मा (मनोवैज्ञानिक) का कहना है कि आज देश जहां 21वीं सदी में जी रहा है, वहीं समाज में ऐसे लोग भी है जो अंध विश्वास में जी रहे है। इन लोगों को जागरुक करने की जरूरत है। इन्हें डर है कि अगर घर में दरवाजे चौखट लगवा लेंगे तो कही कोई बड़ी अनहोनी न हो जाए।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper