पिता ने कर्ज लेकर दोनों बेटों को पढ़ाया, बेटों ने पायलट बनकर गर्व से चौड़ा कर दिया पिता का सीना

अमेठी: गांव में खड़े होकर आसमान में उड़ती हवाई जहाज देख मन में आसमान में उड़ने की ललक का जन्म हुआ। उस मुकाम को हासिल करने के लिए जुनून सवार हो गया। पिता ने भी बेटों के हौसले को गिरने नहीं दिया और उनकी इस पढ़ाई के लिए कर्ज लेकर आसमान में उड़ान के सपने का पूरा कर दिया।

दोनों भाईयों ने भी अपने लक्ष्य को पाने के लिए कड़ी मेहनत की। इसका परिणाम रहा बड़े भाई ने आल इंडिया पायलट ट्रेनिंग में देश में तीसरी तो छोटे भाई ने पांचवी रैंक हासिल कर गांव व जिले का नाम रोशन किया। जिले के बहादुरपुर ब्लाक के गांव हिमांचलपुर मजरे जमालपुर रामपुर के रहने वाले लाल बहादुर यादव के दोनों पुत्र महेंद्र यादव व धीरेंद्र यादव ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी फुरसतगंज में अपने सपने को पूरा करने के लिए अक्टूबर 2014 में इंट्रेंस परीक्षा दी।

परीक्षा में दोनों भाई सफल हुए। ढाई साल की कड़ी ट्रेनिंग व मेहनत के बल पर 16 फरवरी 2019 को उड़ान समाप्त कर प्रशिक्षु महेंद्र यादव ने ट्रेनिंग पायलट में दो सौ घटे फ्लाइंग पूर्ण किए तो छोटे भाई धीरेंद्र यादव ट्रेनी पायलट में 155 घटे फ्लाइंग की जो अभी अपने बड़े भाई से 45 घंटे पीछे हैं।

बेटों के पायलट बनने के ख्वाब में धन की कमी अड़े आ रही थी, लेकिन पिता ने हार नहीं मानी। पिता ने वह सबकुछ किया जो वह कर सकता था। बैंकों से ऋण लेने के अलावां नात-रिश्तेदारों से भी मदद मांगी। बेटे भी अब अपनी उपलब्धि का पूरा श्रेय पिता को दे रहे हैं। जिसे सुन बाप का सीना फक्र से चौड़ा हो गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper