बदलें आदतें, बनें पापा

आईवीएफ सेंटरों पर बढ़ती भीड़ से एक बात तो साफ हो रही है कि पिछले कुछ वर्षों में बांझपन की समस्या तेजी से बढ़ी है। इस समस्या का शिकार केवल महिलाएं ही नहीं, बल्कि बड़ी संख्या में पुरुष भी हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि रोजमर्रा की आदतें ही पुरुषों को इनफर्टिलिटी की ओर धकेल रही हैं। कैसे सही लाइफस्टाइल अपनाकर बांझपन से छुटकारा पाया जा सकता है, बता रही हैं आशाश्री

हाल के वर्षों में देखा गया है कि लगभग हर शहर में आईवीएफ सेंटरों की संख्या तेजी से बढ़ रही है और साथ ही बढ़ रही है इन सेंटरों पर भीड़। पहले परिवार में किलकारियां न गूंजने का दोष जहां महिलाओं को ही दिया जाता था, वहीं अब पुरुषों में भी कमियां सामने आ रही हैं। दरअसल, देखा जाए तो स्पर्म से जुड़ी हुई समस्याएं जैसे कि स्पर्म काउंट का कम हो जाना, गतिशीलता की कमी या असामान्य या मृत शुक्राणु पुरुष की नपुंसकता का सबसे बड़ा कारण होते हैं।

अगर एक शोध की माने तो 40 साल पहले के मुकाबले आज के पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता में 60 फीसदी की कमी आई है। इसके पीछे तनाव, खराब लाइफस्टाइल, खराब खानपान, धूम्रपान और प्रदूषण जैसी चीजें की मुख्य वजह हैं। अगर आप फैमिली प्लानिंग कर रहे हैं, लेकिन कोशिश करने के बावजूद भी बार-बार फेल होते जा रहे हैं, तो हो सकता है कि आपकी कुछ बुरी आदतों की वजह बाधक बन रही हों। आपके पापा बनने का सपना बस ख्यालों में ही रह जाता है। हम आपको बता रहे हैं कि वह कौन सी आदतें हैं, जिनसे दूर रहकर आप भी पापा बन सकते हैं।

गोद में लैपटॉप रखकर काम करना : आपको शायद ही पता हो कि अंडकोष शरीर के तापमान से करीब 2 डिग्री ठंडे जरूर होने चाहिएं। लेकिन जब आप अपनी गोद में लैपटॉप को रखकर काम करते हैं, तो उस दौरान लैपटॉप से निकलने वाली गर्म हवा से आपके स्पर्म पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इससे आपके अंडकोष का तापमान बढ़ जाता है।

मोबाइल को पैंट की जेब में रखना : आजकल हर किसी के पास मोबाइल फोन होता है और ज्यादातर लोग उसे अपनी पैंट की जेब में ही रखते हैं। लेकिन आपको ऐसा करने से बचना चाहिए, क्योंकि फोन से निकलने वाली हानिकारक रेडिएशन स्पर्म की प्रजनन क्षमता को काफी कम कर देती हैं। एक अध्ययन में इस बात का दावा भी किया गया है कि जो पुरुष अपनी पैंट की जेब में मोबाइल रखता है, उसके स्पर्म काउंट करीब 9 फीसदी तक कम हो सकते हैं।

टाइट अंडरवियर और पैंट पहनना : कई ऐसे पुरुष होते हैं जिन्हें टाइट जींस और अंडरवियर पहनने की आदत होती है। ऐसा करने से अंडकोष वाला भाग भी शरीर के तापमान के बराबर गर्म हो जाता है। इस वजह से स्पर्म बनने की प्रक्रिया एकदम रुक जाती है। या फिर बनते भी हैं, तो काफी थोड़े बनते हैं, वह भी निष्क्रिय होते हैं।

ज्यादा चाय-कॉफी पीना : अगर आप किसी ऑफिस में काम करते हैं, तो उस दौरान आप थकावट की वजह से 6 से 7 कप चाय और कॉफी तो जरूर पीते होंगे। लेकिन आपको बता दें कि कैफीन का ज्यादा सेवन करने से पुरुषों की प्रजनन शक्ति पर प्रतिकूल रूप से प्रभाव पड़ता है। ऐसे में आप यही कोशिश करें कि एक या दो कप चाय पीएं।

नींद कम लेना : अगर आप रोजाना करीब 7 से 8 घंटे नींद नहीं लेते हैं, तो इसका असर सीधा आपके स्पर्म बनने की प्रक्रिया पर पड़ता है। जिस तरह आपके शरीर और मस्तिष्क को आराम की जरूरत होती है, उसी तरह स्पर्म को भी आराम करने की आवश्यकता होती है।

नशीले पदार्थों का सेवन करना : आजकल के लड़कों को पाॢटयां करने का ज्यादा शौक है और उन पाॢटयों के दौरान वे जमकर नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं। लेकिन इन पदार्थों के सेवन करने से पुरुषों की शुक्राणुओं की संख्या और उनकी गुणवत्ता में काफी कमी हो जाती है। इसके अलावा फ्लेवर्ड हुक्का से भी बांझपन की समस्या हो जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper