भारत बंद: प्रयागराज में सपा कार्यकर्ताओं ने गंगा-गोमती एक्सप्रेस ट्रेन रोकी

प्रयागराज। भारत बंद का असर मंगलवार को प्रयागराज में देखने को मिला है। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद से लखनऊ जाने वाली गंगा- गोमती एक्सप्रेस रोक कर विरोध प्रदर्शन किया। ही पुलिस मौके पर पहुंची तो कार्यकर्ता भाग खड़े हुए। सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार के 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम से संबंधी पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी है। ऐसे में आदिवासी अधिकार आंदोलन, ऑल इंडिया अंबेडकर महासभा, संविधान बचाओ संघर्ष समिति जैसे बड़े 21 दलों समेत कई संगठनों ने इसके विरोध में मंगलवार को भारत बंद आह्वान किया है। बंद का समर्थन कांग्रेस, राजद, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी जैसी बड़ी पार्टियों ने किया है। इसी कड़ी में मंगलवार को सपा कार्यकर्ताओं ने बैरहना इलाके में इलाहाबाद से लखनऊ जाने वाली गंगा गोमती एक्सप्रेस ट्रेन को बीच रास्ते में रोक कर विरोध प्रदर्शन किया।

रातभर नींद न आने की समस्या से हैं परेशान, तो आजमाएं ये 5 घरेलू उपाय

कार्यकर्ताओं ने ट्रेन के इंजन पर चढ़कर कर नारेबाजी की। विरोध प्रदर्शन की सूचना पर कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और विरोध प्रदर्शनकारी पुलिस को देखकर भाग खड़े हुए। इसके बाद दोबारा ट्रेन को रवाना किया गया है। इसके अलावा प्रयागराज के कई इलाकों में प्रदर्शन हो रहे हैं।

ये मुख्य मुद्दे

भारत बंद करने के पीछे कई अहम मुद्दे हैं। इनमें उच्च शिक्षण संस्थानों की नियुक्तियों में 13 प्वाइंट रोस्टर की जगह 200 प्वाइंट रोस्टर लागू करने, शैक्षणिक व सामाजिक रूप से भेदभाव, वंचना व बहिष्करण का सामना नहीं करने वाले सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान रद्द करने, आरक्षण की अवधारणा बदलकर संविधान पर हमले बंद करने, लगभग 20 लाख आदिवासी परिवारों को वनभूमि से बेदखल करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पूरी तरह निरस्त करने के लिए अध्यादेश लाने और पिछले साल 2 अप्रैल के भारत बंद के दौरान बंद समर्थकों पर दर्ज मुकदमे व रासुका हटा कर उन्हें रिहा करने की मांग है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper