मंत्री रामदास अठावले ने रखी मांग, अयोध्या में बने भव्य बुद्ध विहार

मुंबई: केंद्रीय सामाजिक न्याय राज्यमंत्री रामदास अठावले ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ-साथ वहां बुद्ध विहार बनाने की ईच्छा जताई है। रिपब्लिकन पार्टी के अध्यक्ष अठावले ने कहा कि मंदिर स्थल एक प्राचीन बौद्ध तीर्थ स्थल था और इसलिए अयोध्या में एक भव्य बुद्ध विहार के निर्माण की आवश्यकता है। इस मांग को उठाते हुए, केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि मंदिर और बाबरी मस्जिद से पहले बुद्ध विहार मौजूद था।

अठावले ने कहा, चूंकि सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के निर्माण की अनुमति दी है और यहां तक ​​कि बाबरी मस्जिद के लिए भी जमीन दी है, इसलिए हम मांग करते हैं कि हमें एक भव्य बुद्ध विहार के निर्माण के लिए भी एक भूखंड दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह जल्द ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करेंगे ताकि उनकी मांग को पूरा किया जा सके।

वहीं, प्रख्यात गायक आनंद शिंदे की भी यही मांग थी, जिन्होंने सभी दलित नेताओं से अपने मतभेदों को दूर करने और बुद्ध विहार के निर्माण के लिए एकजुट होने का आग्रह किया। शिंदे ने कहा कि वहां पर समतली करण के दौरान वहां प्राचीन बौद्ध कलाकृतियां मिली थीं। उन्होंने कहा कि इसके लिए दलित नेताओं को एस साथ आने और साइट के पास एक संग्रहालय और बुद्ध विहार के निर्माण की दिशा में काम करने की आवश्यकता है। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (गवई) के प्रमुख राजेंद्र गवई ने कहा कि अयोध्या धार्मिक सद्भाव का प्रतीक बन जाएगा।

अयोध्या में भारत के सभी तीन प्रमुख धर्मों के लिए पूजा स्थल होंगे। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को राम मंदिर का शिलान्यास करेंगे और इस आयोजन के लिए पूरा प्रशासन दिन रात काम कर रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper