मुंशी प्रेमचंद के बहाने बीजेपी पर राहुल का हमला

दिल्ली ब्यूरो: राहुल गांधी ने फिर से बीजेपी सरकार पर हमला किया है। राहुल लगातार राफेल और दोकलाम पर हमलावर रहे हैं अब साम्प्रदायिकता का मामला उठाया है। हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष ने किसी का नाम नहीं लिया है लेकिन माना जा रहा है कि उनका इशारा भाजपा की ओर ही है।

राहुल ने शुक्रवार को अपने ट्वीट में लेखक मुंशी प्रेमचंद के एक आलेख का हिस्सा साझा किया है। जिसमें लिखा है कि सांप्रदायिकता सदैव संस्कृति की दुहाई दिया करती है। उसे अपने असली रूप में निकलने में शायद लज्जा आती है, इसलिए वह उस गधे की भांति, जो सिंह की खाल ओढ़कर जंगल में जानवरों पर रौब जमाता फिरता था, संस्कृति का खोल ओढ़कर आती है। हिंदुस्तान के महानतम लेखक मुंशी प्रेमचंद की याद को प्रणाम। यह आलेख ‘सांप्रदायिकता और संस्कृति’ शीर्षक से लिया गया है जिसे 1934 में मुंशी प्रेमचंद्र ने लिखा था।

बता दें कि राहुल गांधी पिछले कुछ समय से मोदी सरकार को घेर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने राफेल विमान सौदे में कथित अनियमितता को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए दावा किया था कि 36 विमानों के रखरखाव के लिए अगले 50 वर्षों में देश के करदाताओं को एक निजी भारतीय समूह के संयुक्त उपक्रम को एक लाख करोड़ रुपये देने होंगे।

गौरतलब है कि कांग्रेस लगातार आरोप लगा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमानों के लिए तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के समय किये गये सौदे को गलत तरीके से रद्द किया और राफेल विमानों को अधिक कीमत में खरीदने का सौदा किया। पार्टी का कहना है कि इस सौदे में व्यापक स्तर पर गड़बडी हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper