मुख्यमंत्री योगी ने ‘आम’ महोत्सव 2018 का किया उद्घाटन

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित ‘आम महोत्सव 2018 का उद्घाटन किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आम उत्पादन बढ़ाने के साथ-साथ किसानों की आय को दोगुना कर उनके चेहरे पर खुशहाली लाने का जो प्रयास आम महोत्सव के माध्यम से किया जा रहा है, वो सराहनीय है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मार्केटिंग के अभाव में हम चीजों की ब्रांडिंग नहीं कर पाते हैं। उत्तर प्रदेश में पैदा होने वाली आम की सर्वाधिक प्रजातियों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। दुनिया में आम की जिस प्रजाति की मांग ज्यादा होती है, उसको विकसित करने की दिशा में उद्यान विभाग और मंडी परिषद को कायज़् करने की जरूरत है।

प्रदेश आम उत्पादन में भी नंबर वन बने, इसके लिए प्रयास किए जाने की आवश्कता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के अंदर मंडियों को सुधारने का भी कार्य किया जा रहा है। साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखते हुए मंडियों का आधुनिकीकरण किया जा रहा है। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आम महोत्सव में 725 किस्म के आमों को प्रदर्शित किया गया है। इनमें से अधिकांश का उत्पादन उत्तर प्रदेश में होता है। आम से बनने वाले उत्पादों को भी प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। इससे किसानों की आय बढ़ाने में मदद मिलेगी।

उद्यान विभाग के निदेशक डॉ राघवेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि दशहरी, रोशनआरा, चौसा, लंगड़ा, समर बाहिश्त चैसा, नीलम, सुवणज़् रेखा, बंगनपल्ली, पैरी, मलगोवा, मल्लिका, अल्फांसो, आम्रपाली, सफेदा सहित करीब 725 आम की प्रजातियों का प्रदर्शन किया गया है। इस महोत्सव में प्रदेश के करीब 1500 किसान प्रतिभाग कर रहे हैं। कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री दारा सिंह चौहान, डॉ रीता बहुगुणा जोशी और राज्यमंत्री स्वामी सिंह प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper