मोदी सरकार के चार साल : माया बोलीं, जनता है बेहाल

लखनऊ: मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर जमकर हमला बोला। उन्होंने आरोप लगाया कि इस सरकार में जनता बेहाल है। गरीबों का कुछ भी भला नहीं हुआ।

राजधानी लखनऊ में पत्रकारों को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार चार साल पूरे होने के बाद गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई जैसे मुद्दों पर ऐतिहासिक रूप से जबरदस्त तरीके से फेल हुई है। ऐसे में केंद्र सरकार को अपने चार साल के कार्यकाल का उत्सव मनाने का अधिकार नहीं है, करोड़ों रुपये उत्सव में खर्च न करके इसे गरीबों की भलाई में लगाएं।

मायावती ने कहा कि भाजपा के कार्यकाल में पेट्रोल और डीजल इतना महंगा हो गया की जनता परेशान हो गई है, जिसे रोक न लगाई गई तो हमारी पार्टी अब सड़कों पर उतरेगी। उन्होंने कहा कि गरीबों और दलितों पर अत्याचार बढ़ा है, नोटबंदी के निर्णय से गरीबी और बेरोजगारी बढ़ी है और रुपये की कीमत घटी है, इसके लिए मोदी सरकार की गलत नीतियां जिम्मेदार हैं।

इसके साथ ही विपक्षी पार्टियों को कमजोर करने के लिए सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया है।बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा राज का मतलब जंगल राज हो गया है, आरएसएस के लिए कानून का कोई मतलब नहीं रह गया है।

कठुआ मामले का जिक्र किया और कहा कि सत्ता के बल पर इसे दबा दिया गया। इनकी चोरी और सीनाजोरी देश मे अभूतपूर्व है, पीएम मोदी के वादा खिलाफी के कारण सरकार का रुतबा भी जाता रहा है। यह भाजपा सरकार के जाने का संकेत है, एनडीए के सहयोगी भी इनसे अलग होते जा रहे हैं।

मायावती ने आज लखनऊ में पूरे देश से बसपा कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई है। उन्होंने यह बैठक पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के लिए कुछ जरूरी संशोधन और उपचुनाव में दिशा-निर्देश देने के लिए बुलाई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper