यहां हर रविवार सजती थी सेक्स की मंडी, ऐसे होती थी महिलाओं की खरीद-फरोख्त!

भोपाल: मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल के अशोका गार्डन इलाके में रविवार देर रात को पुलिस ने एक सेक्‍स रैकेट का भंडाफोड़ किया। यहां पिछले 6 माह से अंजुमन की आड़ में हर रविवार को यह धंधा चल रहा था। सीएसपी उमेश तिवारी को स्थानीय लोगों ने मामले की सूचना दी, जिसके बाद उन्होंने तीन थानों की पुलिस के साथ मयूर बिहार कॉलोनी में दबिश दी। पुलिस ने 7 महिलाएं समेत 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार महिलाएं तलाकशुदा व विधवा हैं।

पुलिस के मुताबिक रविवार रात 11 बजे सीएसपी तिवारी को स्‍थानीय लोगों से सूचना मिली कि मकान नंबर 73 मयूर बिहार कॉलोनी में किराए पर कमरा लेकर शाहीन खान नामक महिला संदिग्ध गतिविधियां संचालित कर रही है। हर रविवार को यहां अंजुमन के नाम पर लोग एकत्र होते थे और आपत्तिजनक कार्य किये जाते थे। पुलिस टीम ने शाहीन के कमरे में दबिश दी। जहां से शाहिन समेत 7 महिलाएं और एक युवक को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार युवक का नाम ताजवर खान निवासी जिंसी जहांगीराबाद है। गिरफ्तार महिलाएं भोपाल की रहने वाली हैं।

आरोपी ताजवर ने बताया कि वह मजदूरी करता है। शाहीन उर्फ शन्नों इस धंधे का संचालन करती है। हर रविवार को वह अपने बंधे हुए ग्राहकों को कॉल कर घर बुलाया करती थी। जहां महिलाओं को लाइन से खड़ा किया जाता था। इसके बाद उसी के घर में पसंद की महिला के साथ यह घिनौना काम किया जाता था। इस कार्य की कीमत पांच सौ से एक हजार रुपये तक चुकानी होती थी। पुलिस ने इस मामले में महिलाओं से भी पूछताछ की। पूछताछ के दौरान पुलिस से बचने के लिए आरोपी महिलाएं गिड़गिड़ाने लगीं। उनका कहना था कि वे मजबूरीवश इस गौरखधंधे में जुड़ गई थीं। पुलिस ने सभी महिलाओं के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper