राष्ट्रपति कोविंद ने उपराष्ट्रपति के तौर पर 3 साल पूरा करने पर नायडू की प्रशंसा की

नयी दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उपराष्ट्रपति के तौर पर तीन वर्ष पूरा करने पर वेंकैया नायडू की मंगलवार को प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि जनता के बीच उनका आचरण हमेशा से समावेशी एवं मजबूत भारत के निर्माण की खातिर पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने की सहज भावना से प्रेरित रहा है। नायडू ने 2017 में इसी दिन उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली थी।

कोविंद ने नायडू को लिखे एक पत्र में कहा, “उपराष्ट्रपति के तौर पर, आप अपनी ऊर्जा, विवेक और उत्साह को निरंतर राष्ट्र निर्माण के लिए रचनात्मक समाधानों में बदलने की अपनी क्षमता से भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणास्रोत के रूप में उभरे हैं।” उन्होंने कहा कि राज्यसभा के सभापति के तौर पर नायडू ने अभूतपूर्व स्तर पर विधायी काम-काज कराने का रिकॉर्ड स्थापित किया है। राष्ट्रपति ने कहा कि यह आपकी प्रतिभा और दोनों पक्षों के बीच संतुलन बनाने की क्षमता का सम्मान है।

कोविंद ने पत्र में कहा, “कानून एवं संविधान की आपकी गहरी समझ ने लोकसेवा में आपको न्यायसंगत रुख अपनाने के लिए सक्षम बनाया है। आपका लोक आचरण हमेशा से समावेशी एवं मजबूत भारत के निर्माण के लिए कतार में खड़े अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने की सहज लालसा से प्रेरित रहा है।” राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘उपराष्ट्रपति के रूप में आपके कार्यकाल के तीन वर्ष के समापन पर, मैं आपकी अच्छी सेहत की कामना करता हूं और आपको एवं आपके परिवार को शुभकामना देता हूं।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper