लखनऊ से बाराबंकी के लिए नहीं मिल रही रोडवेज की बसें,यात्री परेशान

लखनऊ: राजधानी लखनऊ के चारबाग और मोहनलाल गंज से बाराबंकी के लिए सिटी बसें बन्द होने से यात्रियों को अब यहां से रोडवेज बसें नहीं मिल रही हैं। इसलिए यात्रियों की दिक्कतें लगातार बढ़ती जा रही हैं। लखनऊ से बाराबंकी आने-जाने वाले यात्रियों की परेशानी को देखते हुए बाराबंकी से लोकसभा सांसद प्रियंका रावत ने और बसें चलाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के साथ रोडवेज अधिकारियों को पत्र लिखा है। पत्र में प्रियंका रावत ने मांग किया है कि यात्रियों की सुविधा के लिए इस रूट पर और अधिक बसें चलाई जाए ताकि यात्रियों को आने-जाने में कोई दिक्कतें न हो।

लखनऊ के क्षेत्रीय प्रबंधक पीके बोस ने शनिवार को बताया कि यात्रियों की समस्याओं को देखते हुए जल्द ही दोनों रूटों पर बसों का संचालन बढ़ाए जाने की तैयारी चल रही है। जल्द ही सुबह और शाम के समय दोनों ही रूटों पर बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी। फिलहाल इस रूट पर रोजाना करीब 25 से 30 हजार यात्री सफर करते हैं। मौजूदा समय में रोडवेज की जो बसें लखनऊ-बाराबंकी रूट पर चल रही उससे यात्रियों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। इस संबंध में यात्रियों ने भी चारबाग और कैसरबाग बस अड्डे पर बसें बढ़ाने के लिए पत्र क्षेत्रीय प्रबंधक को दिया है।

गौरतलब है कि मंडलायुक्त के निर्देश के बाद सिटी बस प्रबंधन ने मोहनलाल गंज और बाराबंकी रूट पर करीब 18 सिटी बसों का संचालन एक फरवरी से बंद कर दिया था। बाराबंकी से लखनऊ के बीच रोजाना 20 हजार से अधिक यात्री सफर करते हैं। इनमें छात्र-छात्राएं, नौकरी और व्यापार वर्ग से जुड़े लोग शामिल हैं। इस रूट पर फिलहाल रोजाना 35 बसों का संचालन बाराबंकी से किया जा रहा है। यात्रियों की संख्या के लिहाज से बसों की संख्या कम है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper