लॉकडाउन का असर : कानपुर से वाराणसी तक गंगा की हुई निर्मल

वाराणसी/कानपुर : कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देशभर में किये गए 21 दिन के लॉकडाउन का असर ना सिर्फ वायु प्रदूषण पर पड़ रहा है, बल्कि गंगा भी निर्मल हो रही है। वाराणसी और कानपुर में गंगा की बहती निर्मल धारा अब स्वच्छ देखने को मिल रही है। लॉकडाउन से 24 मार्च से ही देश की 1.3 अरब आबादी घरों में सिमटी हुई है, फैक्ट्रियां बंद हैं, दुकानें बंद हैं। इस कारण गंगा में फैक्ट्रियों का दूषित पानी नहीं मिल रहा है, जिसके चलते गंगा स्वच्छ और अविरल बह रही है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, ज्यादातर निगरानी केंद्रों में गंगा नदी के पानी को नहाने लायक पाया गया है। सीपीसीबी के वास्तविक समय के निगरानी आंकड़ों के अनुसार, गंगा नदी के विभिन्न बिन्दुओं पर स्थित 36 निगरानी इकाइयों में करीब 27 बिन्दुओं पर पानी की गुणवत्ता नहाने और वन्यजीव तथा मत्स्य पालन के अनुकूल पाई गई है।

दरअसल गंगा में रासायनिक कचरा उद्योगों का सीधे गिरता रहा है। अब ये उद्योग बंद होने से गंगा नदी में उद्योगों का वेस्ट केमिकल नही जा रहा है जिसकी वजह से पूर्व की अपेक्षा गंगा अधिक साफ हो गई हैं। यह पर्यावरणीय दृष्टि से भी काफी शुभ संकेत माना जा रहा है।

उद्गम से लेकर मुहाने तक गंगा का प्रवाह अब पावन हो चुका है। गंगा के सफाई का कार्य जो कि पिछले कई अरसों से नहीं हो पा रहा था, वह इस लॉक डाउन में दस दिन के भीतर ही हो गया। लॉकडाउन की वजह से गंगा में रासायनिक कचरा न मिलने, मल-जल व उर्वरकों वाले जल के प्रवाह रुकने से गंगा लगभग 40-50 फीसद तक स्वतः ही साफ हो गई हैं।

लोगों द्वारा गंगा में फैलाये जाने वाले सीधे प्रदूषण जैसे मल प्रवाह, स्नान, फूल-माला इत्यादि नहीं चढ़ाए जा रहे हैं। वहीं ग्राउंड वाटर भी अब जो गंगा में मिल रहे हैं उनमें नाइट्रेट की कमी आ गयी है क्योंकि खेतों में उर्वरकों का प्रयोग अभी बंद हैं। इसके साथ ही प्रो. मिश्रा के मुताबिक गंगा में बीओडी, सीओडी (केमिकल ऑक्सीजन डिमांड), टीडीएस (टोटल डिसॉल्व सॉलिड) आदि सभी प्रदूषक पैमानों में कमी आयी है, जिस पर शोध किया जा रहा है। इन दिनों लॉक डाउन की वजह से लोगों का गंगा में स्न्नान, कूड़े फेंकना व उद्योग आदि सब बंद है, जिससे प्रवाहित होने वाले हानिकारक विषैले तत्वों का प्रवाह अब गंगा में नहीं हो रहा है। इसका सीधा असर गंगाजल की शुद्धता पर पड़ा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper