शाहीनबाग चाहता है वैलेंटाइंस-डे पर प्रधानमंत्री को तोहफा देना

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी के शाहीनबाग में सीएए और एनआरसी के खिलाफ लगभग दो महीने प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं का कहना है कि 14 फरवरी को वैलेंटाइंस-डे के मौके पर वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्यार का पैगाम देना चाहती हैं।

शाहीनबाग में पिछले करीब 2 महीने से महिलाएं और बच्चे सड़क पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसकी वजह से कालिंदीकुंज मार्ग बंद है। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है, “सरकार का कोई नुमाइंदा आए, हमसे बात करे और हमको आश्वस्त करे कि हम कानून वापस ले रहे हैं।”

वैलेंटाइंस-डे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शाहीनबाग में प्यार का पैगाम देने के लिए गुरुवार को ‘मोदी हैशटैग तुम कब आओगे’ सेलिब्रेशन हुआ और प्रधानमंत्री मोदी के लिए शाहीनबाग के लोग एक टेडी बियर लेकर आए और ये संदेश देने की कोशिश की कि “प्रधानमंत्रीमोदी, आप आइए और हमसे बात करिए, नफरत मत करिए।” साथ ही कहा कि “शाहीनबाग आइए, प्यार के त्योहार का जश्न मनाइए, प्यार बांटिए और अपना तोहफा लेकर जाइए।”

शाहीनबाग में हुए इस कार्यक्रम में कई प्रदर्शनकारी खफा भी नजर आए। कुछ महिलाओं का कहना है कि जामिया में दो दिन पहले छात्रों के साथ मारपीट की गई और दो दिन बाद इस तरह का कार्यक्रम शाहीनबाग में करना एक गलत संदेश देना है।

उन्होंने कहा कि 17 फरवरी को शाहीनबाग में सड़क पर चल रहे प्रदर्शन को लेकर फैसला आना है और जिन्होंने भी यह कार्यक्रम तय किया, उन्होंने ज्यादा लोगों से नहीं पूछा। कई लोग बीच में से उठकर चले गए। ये उन्हें अच्छा नहीं लगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper