सरकार जनता के प्रति अतिसंवेदनशील है: प्रो. रीता बहुगुणा जोशी

लखनऊ ब्यूरो। जनपद जौनपुर की प्रभारी मंत्री प्रो. रीता बहुगुणा जोशी ने आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत 420 लाभार्थियों को प्रधानमंत्री द्वारा प्रेषित पत्र कलेक्ट्रेट प्रेक्षागृह में शुक्रवार को वितरित किए। इस अवसर पर प्रभारी मंत्री ने उज्ज्वला योजना, सौभाग्य योजना, आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का उदाहरण देते हुए कहा कि सरकार जनता के प्रति अतिसंवेदनशील है। हर तबके का विकास सरकार की प्राथमिकता में है।

प्रभारी मंत्री ने बताया कि जनपद जौनपुर में जन आरोग्य योजना के तहत 1 लाख 87 हजार परिवारों को लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया कि उज्ज्वला योजना के तहत जनपद में 2 लाख 84 हजार गैस कनेक्शन, सौभाग्य योजना के तहत 3 लाख 50 हजार परिवारों को विद्युत कनेक्शन दिए गए।

जन आरोग्य योजना के 420 लाभार्थियों को पत्र वितरित किए

ऋण मोचन योजना के तहत जनपद के 75 हजार किसानों को 412 करोड़ रु0 दिए गए। जनपद के 505 आपदा से पीडि़त गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री द्वारा आवास बनाकर दिए गए। उन्होंने कहा कि देश एवं प्रदेश की सरकार ’’सबका साथ-सबका विकास’’ के मूल मंत्र पर कार्य कर रही है और आगे भी करती रहेगी।

मुख्य विकास अधिकारी गौरव वर्मा ने इस योजना का ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ उठाने की अपील की। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना सरकार की अतिमहत्वपूर्ण योजना है, इससे उन गरीब परिवारों के स्वास्थ्य लाभ मिलेगा जो अभी तक धन के अभाव में अपना इलाज कराने में सक्षम नहीं थे।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. रामेय ने योजना की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना के तहत चिन्हित किए गए जनपद के 1 लाख 87 हजार परिवारों के लगभग 10 लाख लाभार्थियों को प्रति परिवार पांच लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान की जायेगी। इसके अंतर्गत लगभग 1350 बीमारियों को सम्मिलित किया गया है। जनपद में इस योजना के तहत अब तक सात व्यक्तियों का इलाज किया जा चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper