वृक्षारोपण कर पर्यावरण के प्रति जागरूकता का दिया संदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की व्यावसायिक राजधानी कानपुर में महाराणा प्रताप समूह ने सरकार द्वारा चलाये जा रहे वृक्षारोपण कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए लगभग तीन हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है। महाराणा प्रताप समूह सात दिनों में शहर के विभिन्न हिस्सों में वृक्षारोपण करेगा।

समूह के चेयरमैन रामसिंह भदौरिया ने सात दिवसीय वृक्षरोपण कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए कहा कि यदि हम संकल्प कर लें कि प्रतिवर्ष एक पौधा लगाकर उसकी सेवा करेंगे तो हम अपने आस-पास के प्रदूषण को जड़ से समाप्त कर सकते हैं। समूह के संयुक्त सचिव गौरव भदौरिया ने इस अवसर पर सभी कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं को बढ़ते हुए प्रदूषण और उसके परिणाम एवं बचाव से अवगत कराया।

इस कड़ी में समूह के निदेशक डा. कुमार ललित ने बताया कि संस्थान में उत्कृष्ट प्रजाति के पौधों का रोपड़ किया जाएगा जैसे शीशम, सागौन, चिनार, बालमखीरा, तिकोमा, कनकचम्पा, गुलमोहर आदि प्रजातियां शामिल हैं। कार्यक्रम में संस्थान से जुड़े पदाधिकारी, विभागाध्यक्ष, शिक्षकगण एवं छात्र-छात्राओं ने वृक्षारोपण कार्यक्रम में उत्साह के साथ प्रतिभाग लिया एवं संकल्प लिया कि वे भविष्य में पर्यावरण जागरूकता अभियान का समर्थन करेंगे।

समारोह में प्रमुख रूप से समूह के चेयरमैन रामसिंह भदौरिया, संयुक्त सचिव गौरव भदौरिया, डायरेक्टर जनरल डा. पुण्यात्मा सिंह, ग्रुप डायरेक्टर डा. कुमार ललित, निदेशक आरके शर्मा (प्रशासन), डा. ममता शुक्ला (प्रिंसिपल), एमपी सिंह, डा. पंकज सिंह, मोहित श्रीवास्तव, शरद गुप्ता, लवि कौशल अग्रवाल, मयंक शुक्ला आदि मौजूद रहे।

बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper