PNB ही नहीं इस युवक को भी नीरव मोदी ने लगाईं चपत, 1.5 करोड़ में बेची नकली हीरे की अंगूठी

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 11,300 करोड़ रुपये के घोटाले मामले में आरोपी नीरव मोदी के खिलाफ एक नया मामला सामने आया है. कैनेडियन मूल के निवासी 36 वर्षीय पॉल अल्फॉन्सो ने नीरव मोदी पर 2 लाख डॉलर की नकली हीरे की अंगूठियां बेचने का आरोप लगाया है. अल्फॉन्सो ने बताया कि उन्होंने नीरव मोदी ने उन्हें नकली अंगूठियां बेची हैं.यह अंगुठियां उन्होंने अपनी मंगेतर को देने के लिए खरीदी थी.

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक पॉल ने बताया कि उनकी मुलाकात नीरव से साल 2012 में अमेरिका के बेवरली हिल्स होटल में हुई थी. इसके बाद कुछ महीनें बाद वह फिर मलिबू में मिले. उन्होंने एक-साथ में खाना खाया. कई मुलाकतों के बाद उनकी अच्छी दोस्ती हो गई. जब पॉल को पता चला कि नीरव एक हीरा कारोबारी हैं.

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर विधानसभा का घेराव

तब उन्होंने अपनी मंगेतर के लिए अंगूठी बनाने की बात छेड़ी. तब नीरव मोदी ने पॉल को अपने यहां से अंगूठियां खरीदने को कहा. पॉल ने बताया कि नीरव से पहली अंगूठी (3. 2 कैरेट) खरीदी जिसकी कीमत लगभग एक लाख बीस हजार डॉलर में खरीदी थी. इसके बाद नीरव मोदी ने उन्हें एक और अंगूठी (2.5 कैरेट) दिखाई, जिसकी कीमत 80 हजार डॉलर बताई थी.

पॉल ने इन अंगूठियों का सारा पेमेंट कर दिया. लेकिन जब उन्हें इसका कोई सर्टिफिकेट नहीं मिला तब उन्होंने नीरव मोदी को कई मेल किए. लेकिन जब कोई जवाब नहीं आया. तब पॉल ने उन अंगूठियों की जांच कराई. जांच के बाद पता चला कि ये अंगूठियां नकली हैं.

बता दें कि एक अक्टूबर को प्रवर्तन निदेशालय ने भी नीरव मोदी के 637 करोड़ रुपये की संपत्ति तथा बैंक एकाउंटों को जब्त कर लिया था. प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्डरिंग एक्ट की धारा 5 के तहत ईडी ने अमेरिकी शहर न्यूयार्क में मौजूद नीरव मोदी की मिल्कियत वाली 29.99 मिलियन अमेरिकी डॉलर मूल्य की दो अचल संपत्तियों को भी जब्त किया है. इसके साथ ही पांच विदेशी बैंक खातों को भी जब्त किया गया था.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper