अंतर्राष्ट्रीय महिला सप्ताह के अंतर्गत जिला जेल में महिला बंदियों को बताए गए उनके अधिकार

बरेली, 07 मार्च। उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के आदेशानुसार तथा माननीय जनपद न्यायाधीश श्री विनोद कुमार दुबे अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के दिशा निर्देशन में चलाए जा रहे महिला जागरूकता एवं सशक्तिकरण सप्ताह के अंतर्गत कल जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा ने जिला कारागार में बंद सिद्ध दोष महिला बंदियों को उनके अधिकारों के संबंध में जागरूक किया।
सचिव न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा द्वारा जिला जेल में बंद महिला सिद्ध दोष बंदियों को विधिक जानकारी उपलब्ध कराने के साथ निशुल्क विधिक सहायता प्रदान करने की चलाई जा रही विधिक योजनाओं की जानकारी भी उपलब्ध कराई गई।
कार्यक्रम के दौरान प्राधिकरण सचिव ने महिला बंदियों से उनके रहन सहन के बारे में जानकारी ली, साथ ही जिन महिला बंदियों के साथ छोटे बच्चे थे उनकी विशेष देखभाल, खानपान तथा पर्याप्त कपड़े उपलब्ध कराने के निर्देश जेल प्रशासन को दिये। महिला बैरकों, शौचालय एवं स्नानघरों की साफ-सफाई के बारे में भी निर्देश दिये गए। बैरक में बंद दो महिला बंदियों को विधिक सहायता दिलाए जाने हेतु अविलम्ब प्राधिकरण को प्रार्थना पत्र भेजे जाने के लिए भी निर्देशित किया गया।
महिला सशक्तिकरण के विशेष कार्यक्रम में प्राधिकरण सचिव ने महिला बंदियों को राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ द्वारा चलाई जा रही निशुल्क अधिवक्ता योजना की जानकारी उपलब्ध कराई और जिन महिला बंदियों के पास अधिवक्ता उपलब्ध नहीं थे उन बंदियों की सूची तत्काल प्राधिकरण कार्यालय में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए और उन महिलाओं को निशुल्क अधिवक्ता प्राप्त करने हेतु योजनाओं की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराई गई।
विधिक जागरूकता शिविर के अवसर पर वरिष्ठ जेल अधीक्षक श्री राजीव कुमार शुक्ला, जेलर श्री आर.के. मिश्रा, डिप्टी जेलर श्री दुष्यंत प्रताप सिंह, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से नौशाद अली और पीएलवी शुभम राय उपस्थित रहे । बरेली से ए सी सकसेना की रिपोॅट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper