अंबानी के घर के पास मिली जिलेटिन स्टिक्स से भरी यूएसवी मामले में एफआईआर दर्ज

मुंबई: मुंबई में रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के चेयरमेन मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास एसयूवी में 20 जिलेटिन स्टिक छोड़ने वाले 2 लोगों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। पुलिस इस एसयूवी को छोड़कर गए दो लोगों की तलाशी में ताबड़तोड़ तरीके से जुटी हुई है।

दरअसल, गुरुवार को दक्षिण मुंबई में अंबानी परिवार के मशहूर लग्जरी घर के करीब एक पेड़ के पास कई घंटों से एक एसयूवी खड़ी पाई गई थी। इतना ही नहीं इस गाड़ी में जिलेटिन स्टिक्स रखी हुईं थीं। इस घटना के बाद देश के राजनीतिक, कॉपोर्रेट और सुरक्षा प्रतिष्ठानों में खलबली मच गई थी। इस गाड़ी के बारे में दोपहर करीब 2 बजे उस समय जानकारी मिली थी, जब आसपास के कुल लोगों ने देखा कि यह कार 12 घंटों से ऐसे ही खड़ी है।

इसके बाद पुलिस ने इस गाड़ी को जब्त कर लिया। इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर अंबानी परिवार की सुरक्षा में लगी गाड़ियों में से एक से मेल खाता है। गाड़ी से एक पत्र भी मिला है, लेकिन इसमें क्या लिखा है, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है। मुंबई पुलिस के प्रवक्ता डीसीपी एस. चैतन्य ने गुरुवार की देर रात कहा कि बरामद की गई जिलेटिन की छड़ें असेम्बल्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस नहीं हैं। लेकिन यह कितनी खतरनाक हो सकती हैं, इसका पता पूरी जांच के बाद ही लग सकेगा। इस मामले में गामदेवी पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता की धारा 286, 465, 473, 120 (बी), 506 (2) और सेक्शन 4 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

अधिकारियों ने यह भी कहा कि एसयूवी को वहां खड़ा करके छोड़ने वाले दोनों व्यक्तियों का भी पता लगाया जा रहा है। ताकि ऐसा करने का मकसद जाना जा सके। राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख, मुंबई के पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह, गृह और खुफिया विभाग के शीर्ष अधिकारी खुद इस जांच की निगरानी कर रहे हैं।बता दें कि दक्षिणी मुंबई और एंटीलिया बिल्डिंग के पड़ोस में भारतीय कॉरपोरेट जगत, शीर्ष राजनेताओं, कई अन्य दिग्गजों, सरकारी अधिकारियों, राजनयिकों, ग्लैमर इंडस्ट्री के घर हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper