अखिलेश का आरोप, मुख्यमंत्री योगी सपा सरकार के कामों का कर रहे उद्घाटन

लखनऊ: सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का आरोप है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सपा सरकार द्वारा कराये गये कार्यों का ही उद्घाटन कर रहे हैं। उन्होंने शनिवार को यहां कहा कि योगी सरकार पिछले एक साल में एक भी परियोजना पर काम नहीं कर सकी।

राजधानी में आज पत्रकारों से वार्ता के दौरान अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार से पूछा कि अगर इन लोगों ने एक वर्ष में कोई काम किया हो तो बतायें। उन्होंने कहा, ‘जिन कामों को हमने किया था और उसका उद्घाटन किया था, यह सरकार उन्हीं कामों का दोबारा उद्घाटन कर रही है।’

अखिलेश ने आरोप लगाया कि योगी सरकार प्रदेश के एक भी नौजवान को नौकरी भी नहीं दे पा रही है। उन्होंने कहा कि जनता सब जान रही है। समय आने पर इनको सबक सिखायेगी। उन्होंने कहा कि हमने जो कार्य करवाया था, ये उसकी जांच भी कर रहे हैं और उद्घाटन भी। आरोप लगाया कि भाजपा वाले हमारे कार्यों में रोड़ा अटकाते थे लेकिन हम कहीं भी रोड़ा नहीं अटकाते।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में जब उनकी सरकार थी तो केंद्र की भाजपा सरकार तमाम कार्यों में अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं देती थी, जिससे बहुत से विकास कार्य प्रभावित हुए। सपा नेता ने प्रदेश की जनता को भाजपा से सावधान रहने की भी नसीहत दी। कहा कि ये लोग केवल जुमलों से जनता को भरमाते हैं।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गाजियाबाद में देश की सबसे बड़ी हिंडन एलिवेटेड रोड का उद्घाटन किया। अखिलेश यादव का कहना है कि इस सड़क का निर्माण कार्य उनकी सरकार ने करवाया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper