अखिलेश के गढ़ में बरसे सीएम योगी

मैनपुरी. मैनपुरी लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में समाजवादी पार्टी राजनीतिक विरासत को बचाने में लगी है तो भारतीय जनता पार्टी सपा के गढ़ को भेदने की कोशिश कर रही है. इस बीच यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को मैनपुरी पहुंचे और अखिलेश यादव के गढ़ करहल में जमकर बरसे. इस दौरान सीएम मोदी ने सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की तारीफ की, जबकि अखिलेश पर परिवारवाद का आरोप लगाया और शिवपाल यादव को फुटबॉल जैसा बता दिया.

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अखिलेश यादव का नाम लिए बिना निशाना साधा और कहा कि कुछ लोग धर्मनिरपेक्षता के नाम पर राजनीति करते हैं, बड़े बड़े नारे लगाते हैं. वो अपने को समाजवादी कहते हैं, लेकिन उनका वास्तविक चरित्र केवल परिवारवाद का है.’

सपा प्रमुख अखिलेश यादव के निर्वाचन क्षेत्र करहल में सपा पर परिवारवाद का आरोप लगाते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘ये परिवारवाद से कभी उबर नहीं पाए हैं. सब कुछ परिवार को चाहिए. राष्ट्रीय अध्यक्ष परिवार का, मुख्यमंत्री भी परिवार का, राष्‍ट्रीय महासचिव भी परिवार का, सांसद भी परिवार का, विधायक भी परिवार का, ब्‍लाक प्रमुख भी परिवार का. परिवार के दायरे से कोई बाहर नहीं निकल पाता है.’

उन्होंने दावा किया, ‘आएंगे भी नहीं. उनको आपकी हाल चाल लेने की फुर्सत ही कहां है. अपनी मित्र मंडली से फुर्सत हो तब तो आपका हाल चाल लें, उनको तो वहीं से फुर्सत नहीं रहती होगी, इसलिए वे आएंगे भी नहीं.’ सीएम योगी ने कहा, ‘उनकी (अखिलेश यादव) स्थिति यही है संकट के समय आपके साथ खड़े नहीं हो सकते. वे केवल भावनात्मक रूप से मैनपुरी को एक बार फिर बहकाने आ रहे हैं.’

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शिवपाल यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि उनकी स्थिति फुटबॉल जैसी हो गई है. उन्होंने कहा, ‘मैं एक दिन चाचा शिवपाल का बयान पढ़ रहा था, उनकी स्थिति पेंडुलम या फुटबॉल जैसी हो गई है. पिछली बार आपने देखा होगा कितना बेइज्जत करके भेजा, कुर्सी तक नहीं मिली, कुर्सी के हैंडल पर बैठना पड़ा था.’

सीएम योगी आदित्यनाथ में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की तारीफ की और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि नेताजी मुलायम सिंह यादव को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, उन्हें इसलिए श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं क्योंकि उन्होंने 2019 में ही दिल्‍ली की संसद में कहा था कि आगे जो भी चुनाव होंगे उसमें आएगी तो भाजपा ही.

सीएम योगी ने आगे कहा, ‘यह नेताजी के आशीर्वाद का परिणाम था कि आजमगढ़ और रामपुर जैसे समाजवादी पार्टी के परंपरागत दुर्ग को ध्वस्त करते हुए भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रत्याशी (जून में हुए उपचुनाव में) भारी बहुमत से परचम लहराते हुए लोकसभा में पहुंचे.’ उन्होंने दावा किया कि एक बार फिर से स्वर्गीय नेताजी का सपना साकार होने जा रहा है, जो उन्होंने कहा था कि जीतेगी तो भाजपा ही. भाजपा के लिए आपसे अपील करने के लिए मैं यहां आया हूं.’

बता दें कि आजमगढ़ संसदीय सीट को अखिलेश यादव ने खाली किया था, जिसपर बीजेपी के दिनेश लाल यादव निरहुआ ने जीत दर्ज की थी. वहीं, आजम खान के इस्तीफे से खाली हुई रामपुर संसदीय सीट के उपचुनाव में भाजपा के घनश्याम लोधी ने सपा उम्मीदवार को पराजित किया था.

मैनपुरी उपचुनाव में कांग्रेस और बसपा ने अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं. इस वजह से यहां भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच सीधा मुकाबला है. उपचुनाव में सपा ने अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव को उम्मीदवार बनाया है, जबकि बीजेपी ने रघुराज सिंह शाक्य को चुनावी मैदान में उतारा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper