अखिलेश ने कानून व्यवस्था पर उठाया सवाल, कहा-यूपी में अपराधी खेल रहे खून की होली

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश में कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा है कि भाजपा राज लूट राज का पर्याय बन चुका है। दीवाली से पहले राज्य में अपराधी खून की होली खेल रहे हैं। न पीएम और न ही सीएम प्रदेश की जनता को सुरक्षा दे पा रहे हैं। यादव ने बृहस्पतिवार को यहां जारी अपने बयान में कहा कि प्रदेश में इस समय कोई सुरक्षित नहीं है।

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में माल में सरेआम दो लोगों को गोली से उड़ा दिया गया। किस निदरेष की कब और कहां हत्या हो जाये, कुछ पता नहीं। मुख्यमंत्री हत्या के मामले में 24 घण्टे में खुलासे के चाहे जितने अल्टीमेटम दें मगर प्रशासनिक तंत्र पर उसका असर नहीं है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वाराणसी ही नहीं उप मुख्यमंत्री और स्वास्य मंत्री के क्षेत्र प्रयागराज में छात्रावास के अंदर सुमित शुक्ला की हत्या कर दी गयी।

आज गुजरात में स्टैच्यू आफ यूनिटी पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे योगी

रायबरेली के हीरा व्यापारी लोकेश दुबे से जौनपुर में बदमाशों ने 1.70 करोड़ की लूट कर उसे गोली मार दी। सपा अध्यक्ष ने कहा कि यूपी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नियंतण्रमें सरकारी मशीनरी नहीं रह गयी है। अपराधियों को हौसले बुलंद हैं। राजधानी में हो रही हत्याओं, लूट, डकैती और बलात्कार जैसे संगीन अपराधों का खुलासा नहीं हो पा रहा है।

उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि इन आपराधिक घटनाओं को देखने से लगता है कि मुख्यमंत्री योगी के कार्यकाल में असली रामराज स्थापित हो गया है। यादव ने प्रदेश में कानून-व्यवस्था ध्वस्त होने का आरोप लगाते हुए राज्यपाल राम नाईक पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की दिन -ब- दिन बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर आखिर राज्यपाल ने क्यों मौन धारण कर रखा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper