अखिलेश ने लगाया योगी पर आरोप, समाज की एकता को तोड़ने का काम करती है भाजपा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश मुख्यालय में सन 2017 में हुए विधानसभा चुनाव लड़े समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की बैठक हुयी। जिसमें किसानों की समस्याओं, लोकसभा चुनाव, मतदाता पुनरीक्षण को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रत्याशियों को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि 17 जनवरी 2018 को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता आलू की बर्बादी, धान की खरीद में लूट, खाद, बीज, न मिलना, बिजली के दामों में बढोत्तरी, गन्ना भुगतान का बकाया जैसे किसानों की समस्याओं को लेकर तहसील स्तर पर धरना प्रदर्शन करेंगे। यादव ने कहा कि कार्यकर्ता विधानसभा क्षेत्र में मतदाता सूची पुनरीक्षण के लिये बूथ कमेटी पर मतदाताओं के नाम शामिल कराने का काम करेंगे। उन्होंने मतदाता सूची में गड़बड़ी से सतर्क रहने के लिए कार्यकर्ताओं की सक्रियता का आह्वान किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा को रोकने की ताकत केवल समाजवादी पार्टी के पास है। भारतीय जनता पार्टी समाज की एकता को तोड़ने का काम कर रही है। यूपी सरकार दूसरे के काम को अपना काम बनाने का झूठा प्रचार कर रही है। समाजवादी सरकार में किये गये कार्यो का उद्घाटन करने में भी भाजपा के लोग संकोच नहीं कर रहे है। भाजपा सरकार अपनी विफलता पर पर्दा डाल रही है। यादव ने कहा कि किसानों की आत्महत्या, ठण्ड से हो रही मौतों पर पीडित परिवारों की भाजपा सरकार कोई मदद नहीं कर रही है। भाजपा लोकतंत्र के सामने खतरा है। जो गरीब और किसान वर्ग है उसे उनके हक से वंचित करने की मंषा भाजपा की है। जनता का ध्यान मुद्दो से हटाने की ताकत भाजपा के पास है। लेकिन लोकतंत्र में झूठ और धोखे की राजनीति लम्बे समय तक सफल नहीं हो सकती है।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा षड़यंत्र और साजिष करने वाली पार्टी है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी लोकसभा चुनाव में विकल्प है। समाजवादी पार्टी लोकतंत्र के हित और जन समस्याओं के समाधान की दिशा में मजबूती से काम करेगी। जनता का भरोसा समाजवादी पार्टी पर है। किसी भी राजनीतिक पार्टी के पास ऐसे निष्ठावान कार्यकर्ता नहीं है जैसे समाजवादी पार्टी के पास हैं।

बैठक को सम्बोधित करते हुए प्रो0 रामगोपाल यादव ने कहा कि एक-एक कार्यकर्ता पूरी निष्ठा से लोकतंत्र को बचाने में रात दिन एक करे। प्रोफेसर साहब ने कहा कि भाजपा सपा प्रतिष्ठान का दुरूपयोग कर रही है जिससे लोकतांत्रिक व्यवस्था के सामने खतरा उत्पन्न हो गया है। उन्होंने कहा कि 2019 में बूथ-बूथ पर संघर्ष होगा। इसीलिए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को बूथ बचाने की लड़ाई लड़नी है। बैठक में वक्ताओं ने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कार्यकर्ता अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की विजय तय करने के लिए पूरी ताकत से जुटेंगे। समाजवादी पार्टी में कार्यकर्ता और नेता कर्मठता और ईमानदारी के साथ समाजवादी पार्टी की नीतियों को जनता में पहुंचाने का काम कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper