अखिलेश ने शिवराज पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- इनकी सरकार में सिर्फ महिलाओं पर हुए हैं अत्याचार

भोपाल: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव गुरुवार को दोपहर में भोपाल पहुंच गए। वे करीब एक घंटा देरी से राजाभोज एयरपोर्ट पर पहुंचे हैं। उनके आते ही मध्य प्रदेश समाजवादी पार्टी के अनेक कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। इसके बाद उन्होंने सीधे प्रेस कांफ्रेस में शिरकत की। उन्होंने मध्य प्रदेश से लेकर केंद्र सरकार तक निशाना साधा।

अखिलेश यादव ने बीजेपी को डिजिटल नफरत फैलाने वाला बताया है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया का उपयोग जोड़ने के लिए था। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज सरकार में सिर्फ महिलाओं पर अत्याचार हुए हैं, हर दिन बच्चियों के साथ रेप हो रहे हैं। किसान आत्महत्या कर रहे हैं। राज्य में युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। महिलाओं के खिलाफ उत्पीड़न सबसे ज्यादा हैं। व्यापमं को लेकर यूपी तक तार जोड़े गए थे।

अखिलेश यादव ने यह भी कहा कि मैं सिमरिया, रीवा, सतना होते हुए महोबा तक कार से गया लेकिन मुझे एमपी में कहीं अमेरिका से अच्छी सड़कें नही दिखी। वहीं मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से बातचीत के सवाल पर उन्होंने कहा कि जिनका नाम आप ले रहे हैं, उनसे हमारे बहुत अच्छे संबंध हैं। उन्होंने ये भी कहा कि हम गठबंधन के पक्ष में हैं। समाजवादी पार्टी मप्र में चुनाव जरूर लड़ेगी।

सपा सुप्रीमों ने कहा कि बीजेपी के लोग समाजवादी का प्रचार कर रहे हैं। मध्य प्रदेश में समाजवादियों को काम करना है। पत्रकारों के एक सवाल में अखिलेश यादव ने कहा कि कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन कैसा होगा इस बारे में अभी तय नहीं हुआ। कांग्रेस के नेताओं से बातचीत के बाद स्थिति साफ होगी। उन्होंने कहा कि इतना जरूर तय है कि समाजवादी पार्टी मध्य प्रदेश में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी। चुनाव के मुद्दे क्या होंगे पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी प्रदेश में महिला से हो रहे अपराध, व्यापमं और किसानों के मुद्दों पर चुनाव लड़ेगी।

बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव अपने प्रवास के दौरान पार्टी के पदाधिकारियों की बैठक में भी हिस्सा लेंगे और चुनाव लड़ाने के लिए संभावित प्रत्याशियों के नाम पर चर्चा करेंगे।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में सपा का बुंदेलखंड के निवाड़ी और टीकमगढ़ जिले में खासा प्रभाव है। सपा ने 2003 के विधानसभा चुनाव में 8.97 प्रतिशत वोट पाकर 7 सीटें जीती थीं। इसके बाद 2008 के चुनाव में सपा को 1 सीट मिली थीं और 1.99 प्रतिशत वोट मिले थे। 2013 में कोई भी सीट नहीं पा सकी और वोट प्रतिशत भी खिसककर 1 प्रतिशत से कम रह गया।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पहले ही कह चुके हैं कि आगामी चुनाव में कांग्रेस समान विचारधारा वाले दलों से गठबंधन करेगी। इस लिहाज से आज कमलनाथ और अखिलेश यादव की चर्चा महत्वपूर्ण हो सकती है। इसकी वजह सपा भी प्रदेश में अपनी 2003 के पहले की खोई हुई जमीन पाना चाहती है। बताया जाता है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पार्टी पदाधिकारियों से विधानसभा चुनाव के लिए संभावित प्रत्याशियों को लेकर भी चर्चा करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper