अखिलेश यादव को एक और झटका, विधान परिषद में सपा से छीना नेता प्रतिपक्ष का दर्जा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधान परिषद में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (सपा) को बड़ा झटका लगा है. दरअसल, राज्य की विधान परिषद में सपा के नेता प्रतिपक्ष की मान्यता समाप्त हो गई है। आपको बता दें कि 100 सदस्यों वाली विधान परिषद में 10 प्रतिशत से अधिक सदस्य होने पर नेता प्रतिपक्ष का पद होता है। लेकिन अब विधान परिषद में समाजवादी पार्टी के केवल 9 सदस्य ही बचे हैं.

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में विधान परिषद के 12 सदस्यों का कार्यकाल 6 जुलाई को समाप्त हो गया था। इनमें से छह समाजवादी पार्टी के थे। इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 3, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 2 और कांग्रेस के एक सदस्य का कार्यकाल भी समाप्त हो गया। इन 12 सीटों पर चुनाव भी हो चुके हैं. उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और भूपेंद्र सिंह चौधरी सहित भाजपा के दोनों सदस्यों को फिर से निर्वाचित किया गया है, जबकि अन्य सदस्यों में से किसी को भी विधान परिषद में वापस नहीं किया गया है।

बता दें कि समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता लाल बिहारी यादव के पास नेता प्रतिपक्ष का पद था। अब उनकी मान्यता समाप्त कर दी गई है। वर्तमान में विधान परिषद में भाजपा के 73 सदस्य हैं, जबकि सपा के 9, बसपा के पास केवल 1 सदस्य हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper