अगर आपके पास हैं 5 या 10 रूपये के पुराने सिक्के तो आप लाखों कमा सकते हैं

लखनऊ: भारत में नोटबंदी का समय आपको याद ही होगा इस दौरान 5 सौ और 1 हजार के नोट बंद कर दिए गए थे अब वक्त काफी बदल चुका है लोग अब ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने लगे हैं खासकर अबके समय में सिक्कों के इस्तेमाल में भारी कमी देखने को मिलने लगी है। इस बीच एक ख़ास तरह के सिक्के की डिमांड काफी बढ़ गई है।

अगर आपके पास इस तरह का सिक्का है तो आप एक झटके में लखपति बन सकते हैं। ये हैं 5 और 10 के सिक्के। इन सिक्कों की बिक्री ऑनलाइन हो रही है। आप इन्हें बेचकर लखपति बन सकते हैं आइये आपको बताते हैं इन सिक्कों के बारे में और आप इन्हें कहां बेच सकते.

इस समय मार्केट में खास तरह के 5 और 10 के सिक्कों की डिमांड है। ये सिक्के 10 लाख रुपये तक बिकेंगे। ये वो सिक्के हैं, जिसमें माता वैष्णो देवी की तस्वीर हैइन सिक्कों को 2002 में जारी किया गया था। ये 5 और 10 के सिक्के हैं। इन सिक्कों की मांग काफी ज्यादा है। माता रानी की तस्वीर होने के कारण लोग इसे काफी लकी मान रहे हैं। ऐसे में वो इन सिक्कों के बदले 10 लाख तक पे करने को तैयार हैं। अब ये सिक्के नहीं मिलते।

शुभ माने जाने वाले ये सिक्के लोग गुड लक के लिए अपने पास रखना चाहते हैं। अगर आपके पास 5 और 10 के वो सिक्के हैं, जिनके पीछे वैष्णो देवी की तस्वीर है तो आप इसे इंडियामार्ट की साइट पर बेच सकते हैं। वहां लोग इस तरह के सिक्कों के लिए सर्च कर रहे हैं। दरअसल, दुनिया में ऐसे भी कई लोग हैं, जो पुरानी चीजों के शौक़ीन हैं। इंडियामार्ट पर कई लोग ऐसी ही पुरानी चीजों की तलाश में आते हैं।

ऐसे में अगर आपके पास ये सिक्के हैं, तो 10 लाख अपने अकाउंट में आने के रास्ते आप क्लियर कर सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper