अगर आपको यह सपने आए तो समझिए जल्द ही होने वाला है धनलाभ !

अगर आपको आधी रात के बाद और सुबह सूर्योदय तक के बीच के समय में इनमें से एक भी स्वप्न दिखाई दे तो समझिए कि आप करोड़पति बनने वाले हैं। यहीं नहीं आप सपने देखने के समय से यह भी जान सकते हैं कि कितने समय में आपका स्वप्न पूरा होकर आप धनी बन जाएंगे।

ज्योतिष के अनुसार सूर्योदय के समय देखा गया सपना उसी दिन सच होता है जबकि ब्रह्ममुहूर्त में देखे गए स्वप्न दस दिन में पूरा होता है। जबकि आधी रात के बाद तथा ब्रह्ममुहूर्त से पहले के दो प्रहरों में देखे गए स्वप्नों का फल एक महीने से दस महीने में मिलता है।

यदि कोई कुंवारी लड़की सपने में किसी पुरूष अथवा प्रेमी से मिलन होते देखें तो उसकी शादी किसी बहुत धनी घर में होते हैं अथवा वह शादी के बाद बहुत अमीर बन जाती है।
यदि सपने में कुत्ता काटता दिखाई दे तो भी व्यक्ति जल्दी ही करोड़पति बनता है।
यदि कोई व्यक्ति स्वप्न में खुद को कच्चा नारियल खाते या बांटते हुए दिखाई दे तो उसे कहीं न कहीं से जल्दी ही पैसा मिलता है।
यदि स्वप्न में कोई नन्हा बच्चा ठुमक ठुमक कर चलता दिखाई दे तो कुछ ही दिनों में बहुत सारा पैसा मिलता है।
अगर कोई व्यक्ति स्वप्न में किसी दूसरे की चीज झपट्टा मार कर छीन ले तो उसे जल्दी ही शेयर मार्केट दलाली या सट्टे में बहुत सारा धन प्राप्त होता है। यदि आदमी खुद के बजाय किसी गिद्ध या बाज को ऐसा करते देखे तो भी उसे आकस्मिक लाभ होता है।
स्वप्न में चींटियों को एक कतार में चलते देखना भी बहुत जल्दी पैसा प्राप्त करने का लक्षण है।
यदि स्वप्न में बछड़े के साथ गाय दिखाई दें और बछड़ा गाय का दूध पी रहा हो तो यह बहुत जल्दी करोड़पति बनने का संकेत है।
स्वप्न में किसी मंदिर का दिखाई देना अत्यंत शुभ माना जाता है परन्तु मंदिर के अंदर कलश भी दिखाई दे तो समझना चाहिए कि साक्षात लक्ष्मी का घर में वास होने वाला है।
यदि रात को सोते समय स्वप्न में अपनी पत्नी को अपने पास लेटी हुई दिखाई दे तो यह व्यक्ति की दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की का संकेत है। आप बहुत जल्दी ही करोड़पति बनने वाले हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper