अगर आप कैंसर के खतरे को कम करना चाहते हैं तो यह 8 बातों का ध्यान रखें

लखनऊ: इंडियन कैंसर सोसायटी के अनुसार, भारत में अगले 10 वर्षों में लगभग 1.5 करोड़ लोगों को कैंसर हो सकता है। इनमें से 50% कैंसर को ठीक नहीं किया जा सकता है। एस लिए हमे बारीकी से इसका ध्यान रखना चाहिए। राष्ट्रीय कैंसर जागरूकता दिवस हर साल 7 नवंबर को मनाया जाता है। यहां जानिए कैंसर से बचाव के लिए 8 बातें …

1) भोजन में नमक की मात्रा कम करें :-

कैंसर काउंसिल के शोध के अनुसार, उच्च नमक के सेवन से पेट और एसोफैगल कैंसर का खतरा 50% तक बढ़ जाता है। नमक में अचार, सॉस, फरसा जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ अधिक होते हैं। इससे दूर रहें। दैनिक आहार में नमक की मात्रा 5 ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए।

2) सुबह धूप में बैठें :-

इंस्टीट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च के एक अध्ययन के अनुसार, विटामिन-डी कैंसर से बचाने में मदद करता है। इसलिए सुबह 10 बजे से पहले धूप में बैठना चाहिए। यह स्तन, प्रोस्टेट, कोलन और अन्य कैंसर को रोक सकता है। अत्यधिक धूप से त्वचा का कैंसर भी हो सकता है। इसलिए सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक धूप में न रहें।

3) प्लास्टिक में न खाएं :-

प्लास्टिक के अत्यधिक उपयोग से कैंसर हो सकता है। प्लास्टिक पॉलिथीन में रखी गर्म चीजों के सेवन से इसका खतरा बढ़ जाता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि प्लास्टिक में बिस्फेनॉल ए (बीपीए) नामक एक रसायन होता है, जो कोशिकाओं की संरचना को बदलता है और कैंसर के खतरे को बढ़ाता है।

4) रेड मीट कम खाएं :-

रेड मीट जैसे मटन और बीफ के साथ-साथ प्रोसेस्ड मीट के सेवन से कोलोन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। प्रोसेस्ड मीट के अत्यधिक सेवन से पेट के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए इसका कम सेवन करना चाहिए।

5) वजन को नियंत्रण में रखें :-

अधिक वजन होना न केवल मधुमेह और हृदय रोग बल्कि कैंसर के लिए भी जिम्मेदार है। इंडियन कैंसर सोसाइटी के अनुसार, मोटापे से स्तन, अग्नाशय, मूत्राशय, इसोफेजियल कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए 30 मिनट की दिनचर्या में शामिल करें। इसके अलावा सप्ताह में 30 मिनट 5 दिन व्यायाम करें।

6) धूम्रपान-शराब से दूर रहें :-

धूम्रपान से फेफड़े, मुंह, मूत्राशय, गर्भाशय ग्रीवा, घेघा और गले के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। अगर आप धूम्रपान के साथ शराब का भी सेवन करते हैं, तो कैंसर का खतरा दोगुना हो जाता है। इसलिए धूम्रपान, शराब और तंबाकू से दूर रहें।

7) 8 घंटे की नींद लें :-

नींद और कैंसर के बीच सीधा संबंध है। एक व्यस्त दिन के बाद एक वयस्क को कम से कम 7 घंटे की नींद और अधिकतम 8 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है। 8 घंटे की नींद लेने से प्रतिरक्षा में सुधार होता है। यह विभिन्न संक्रमणों और मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है, जो कैंसर का एक प्रमुख कारण हैं।

8) कैंसर की समयसर जांच करवाएं :-

कैंसर के लक्षणों के लिए स्क्रीनिंग आवश्यक है। कैंसर का जल्दी पता लगने से गंभीर दुष्प्रभाव को रोका जा सकता है। स्तन, ग्रीवा, प्रोस्टेट, मौखिक और पेट के कैंसर के मामले अधिक सामान्य हैं। ये सभी कैंसर छोटे शहरों में भी पाए जाते हैं। यह जांचना आसान है और यह महंगा नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper