अगर जीवन की हर समस्याओं को पल भर में करना हैं ख़त्म तो अपनाएं ये उपाय

हर व्यक्ति के जीवन में कोई न कोई समस्या अवश्य होती है. इस संसार में कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है, जिसे कोई समस्या या परेशानी न हो. कई बार तो ऐसा होता है कि अचानक व्यक्ति के जीवन में कई समस्याएँ उत्पन्न हो जाती है, जिनसे व्यक्ति आंतरिक रूप से टूट जाता है. किन्तु फिर भी वह इन समस्याओं को दूर करने के लिए हर संभव प्रयास करता है. कुछ व्यक्ति इन समस्याओं को दूर करने में कामयाब हो जाते है, किन्तु कुछ के समक्ष एक के बाद एक समस्या उत्पन्न होती रहती है.

ऐसी स्थिति किसी के साथ भी उत्पन्न हो सकती है. ऐसी स्थिति में व्यक्ति को संयम से काम करना चाहिए व अपने विवेकानुसार इन परिस्थितियों का सामना करना चाहिए. लेकिन इनमे से बहुत से लोग ऐसे होते है, जो अपना धैर्य खो देते है और अनुचित मार्ग अपना लेते है. लेकिन शायद वह यह नहीं जानते कि आगे चलकर इसका परिणाम अधिक दुखदायी होता है.

यदि व्यक्ति अपनी इन परेशानियों को दूर करने के लिए शास्त्रों में दिए गए उपायों की सहायता लेता है, तो इससे कुछ ही दिनों में वह अपनी सभी समस्याओं से मुक्त हो सकता है व अपने जीवन की नकारात्मकता को ख़त्म कर सकता है. ऐसा ही एक उपाय हम आपको बताएंगे जो आपके जीवन से दुर्भाग्य को दूर करने में बहुत ही कारगर है.

उपाय – सरसों के तेल में सिक्के डालकर व गेंहू और पुराने गुड़ के मिश्रण से सात पुए बनाए. अब आंटे से एक दीपक का निर्माण करें व उसमे सरसों का तेल डालकर उस दीपक को जलाएं इस जलते हुए दीपक को किसी पत्तल या अरण्डी के पत्ते पर रखकर इसके साथ पुए व सरसों के तेल का सिक्का, आक के साफ़ फूल और सिंदूर को रखकर किसी चौराहे के कोने में इसे रखकर, कहे कि हे मेरे दुर्भाग्य में तुम्हे यहीं छोड़कर जा रहा हूं, कृपया अब मेरा पीछा मत करना. इतना कहने के बाद इन सब चीजों को वहीं रखकर वापस लौट आयें, और आते समय पीछे पलटकर न देखें. ऐसा करने से आपकी सभी समस्याएँ निश्चित ही समाप्त हो जायेंगी.

अन्य चमत्कारी उपाय के लिए आचार्य जी से संपर्क करे।

आचार्य स्वमी विवेकानन्द
ज्योतिर्विद व वास्तुविद
9044741252

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper