अगर सपने में दिखें मरे हुए लोग तो सावधान, आपके साथ होने वाला है कुछ ऐसा!

नई दिल्ली: जिसने भी जन्म लिया है उसकी मौत तय है लेकिन कुछ लोग अपने सगे परिजनों को जल्दी भूल नही पाते है और उनको हमेशा याद किया करते है जिसके कारण वो लोग उनको सपनों में आके दर्शन देते है और बात करते है क्योंकि कुछ लोगों की याद इतनी ज्यादा प्रभावशाली होती है कि दिल और दिमाग से निकल नही पाते है और याद आया करते है इसलिए जो लोग उन मरे लोगों के बारे में ज्यादा सोचते है और याद करते है उनको सपने जरूर आते है जो व्यक्ति मर चुका है वो भी सपने में दिखने लगता है तो चलिये जानते है मरे हुए लोगों का सपनो में आना और उनके संकेतो का

 मृत लोगो का सपनों में आने का कारण:-

जो लोग अपने परिजनों को ज्यादा याद करते हैं और उनकी हर यादों को भुला नही पाते है तब ये होता है और वो मरा परिजन हमे हमारे सपनों में आकर हमशे मिलता है और हमशे बात भी करता है क्योंकि सपने का कोई भरोसा नही होता वो कब कहाँ हमे ले जाये जब ऐसे लोग सपनों में आते है तब पता चलता है कि वो कैसे है उनके चहरे पर तेज होता है और वो हमको समझाते है और हमारा मार्गदर्शन भी करते है आने वाले भविष्य के लिए हमे आगाह कर देते है।

एहसास मृत लोगों का:- दोस्तों हमारा कोई करीबी अगर मरता है तो हम उसे बहुत ज्यादा याद करते है और वो हमारे सपनो में आ जाते है और हमे समझाते है पर हमें ये नही पता चल पाता कि हम सपनों में मिल रहे है या जग रहे है हम लोगों को लगने लगता है उन पास होने का एहसास।

बीमार लोग:- दोस्तों यदि किसी करीबी की मौत कोई घातक बीमारी से हुई है तो वो लोग आपके सपनो में अगर दिखेंगे तो एकदम स्वस्थ और मुख पर एक अलग सा तेज होता है।

हमेशा अपनो की मदद:- दोस्तों कुछ परिजन हमारे सपनो में आकर अपने उस चाहने वाले से मिलते जो इन परिजन को मरने के बाद उन्हें दिल से याद करते है उनकों सपनो में आकर उनकी हर तरह से मदद करते है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper