अजीत पवार को राज्य की जनता माफ नहीं करेगी: संजय राउत

मुंबई: शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने राजभवन का दुरुपयोग किया है। राउत ने कहा कि राकांपा नेता अजीत पवार ने शरद पवार को धोखा दिया है, इसलिए महाराष्ट्र की जनता अजीत पवार को माफ नहीं करेगी।

संजय राउत ने शनिवार को सूबे में तेजी से बदले राजनीतिक घटनाक्रम पर मुंबई में पत्रकारों से बातचीत में दावा किया कि इस पूरे मामले की जानकारी शरद पवार को नहीं है। राउत ने कहा कि शुक्रवार को नेहरू सेंटर में हो रही बैठक में अजीत पवार किसी से आंख नहीं मिला रहे थे।

इसके बाद रात 9 बजे से ही अजीत पवार का फोन बंद हो गया था। अब पता चला है कि वह किस वकील के पास बैठे थे। राउत ने कहा कि अजीत पवार को देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि उनकी जगह आर्थर रोड जेल में है। संभावना है अजीत पवार को सिंचाई घोटाले का डर दिखाकर उनका समर्थन हासिल किया गया है लेकिन शरद पवार ने जिस तरीके से राकांपा को पुनर्जीवित किया था, उसे झटका देने का काम अजीत पवार ने किया है। राज्य की जनता ने राकांपा छोडऩे वालों को सबक सिखाया है, अजीत पवार को भी बारामती की जनता सबक सिखाने वाली है।

संजय राउत ने कहा कि राजभवन में सुबह 5 बजे राष्ट्रपति शासन खत्म किया गया है और सुबह 8 बजे शपथ दिलाई गई है। राउत ने आरोप लगाया कि रात के अंधेरे में राजभवन पर चोरी से यह काम किया गया है। राउत ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा ने सत्ता और पैसा के बल पर चोरी से सरकार बनाने का काम किया है, राज्य की जनता भाजपा को भी सबक सिखाने वाली है। राउत ने कहा कि आज शिवसेना अध्यक्ष राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से मिलने वाले हैं।

महाराष्ट्र में सबसे बड़ा उलटफेर, देवेंद्र फडणवीस बने मुख्य्मंत्री, धरी रह गई शिवसेना-कांग्रेस की रणनीति

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper