अध्ययन में हुआ खुलासा- सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद है घी

नई दिल्ली: घी में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व होते हैं, जो न केवल सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद होते है, बल्कि वजन घटाने में भी मदद करते हैं। यह सुनकर आप हैरान हो सकते हैं, लेकिन घी अतिरिक्त वजन को कम करने में बहुत कारगर है। घी का इस्तेमाल ज्यादातर भारतीय व्यंजनों में किया जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, रोजाना एक-दो छोटे चम्मच घी खाने से वजन नियंत्रित रहता है। यह अमीनो एसिड से भरपूर होता है और वसा कोशिकाओं के आकार को छोटा करने में मदद करता है।

दो चम्मच से अधिक घी का सेवन नहीं करना चाहिए। घी में 99.9 प्रतिशत वसा, 1 प्रतिशत वसा में घुलनशील विटामिन के साथ मॉश्चर और मिल्क प्रोटीन पाया जाता है। घी संतृप्त वसा से तैयार किया जाता है और इस प्रकार यह कमरे के तापमान पर रखने पर खराब नहीं होता है। घी में फैटी एसिड के संयोजन को समझने के लिए एक स्टडी की गई। इसमें यह पाया गया कि घी डीएचए (डोकोसैक्सिनोइक एसिड) का एक अच्छा स्रोत है। डीएचए सबसे लोकप्रिय ओमेगा 3 फैटी एसिड है। यह हमारे शरीर द्वारा नहीं बनता है, इसलिए इसे आहार के जरिए लेना आवश्यक होता है।

अखरोट, मछली का तेल और अलसी के बीज ओमेगा 3 फैटी एसिड के अच्छे स्रोत हैं। डीएचए कैंसर, हार्ट अटैक, इंसुलिन प्रतिरोध, अर्थराइटिस और अटेंशन डेफिशिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर जैसी समस्याओं के जोखिम को कम करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार, घी व्यक्ति को दीर्घायु प्रदान करता है और विभिन्न बीमारियों से शरीर को सुरक्षित रखता है। इसके अलावा घी जोड़ों को चिकनाहट और पोषण देता है।

साथ ही वसा में घुलनशील पोषक तत्वों के अवशोषण को सुधारता है। चूंकि घी ओमेगा 3 फैट (डीएचए) और ओमेगा 6 (सीएलए) में समृद्ध है। इसलिए यह वजन घटाने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। ओमेगा 6 फैट वसा द्रव्यमान को कम करके शरीर को स्लिम बनाता है। घी में आवश्यक अमीनो एसिड होता है जो वसा कोशिकाओं के आकार को छोटा करता है। अगर आपका शरीर जल्दी वसा जमा करता है तो घी खाना फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, घी में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड बॉडी फैट कम करने में मदद करता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper