लखनऊ में अनुदेशकों ने किया प्रदर्शन, पुलिस ने भांजी लाठियां

लखनऊ ब्यूरो। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत अनुदेशक शिक्षकों ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। उच्च प्राथमिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिशन की ओर से एकत्रित हुए अनुदेशकों ने जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों को भाजपा कार्यालय के सामने पुलिस ने बैरिकेटिंग लगाकर रोका। जब वे नहीं माने तो पुलिस ने उन पर लाठियां भांजनी शुरू कर दी। कई अनुदेशकों को गंभीर चोटें आई हैं।

एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष तेजस्वी शुक्ला का कहना है कि सरकार ने अनुदेशकों की मांग पर अगर जल्द कोई निर्णय नहीं लिया तो और उग्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे। उन्होंने कहा कि जुलाई, 2013 में प्रदेश के उच्च प्राथमिक विद्यालयों में करीब 31 हजार अंशकालिक अनुदेशकों की नियुक्ति हुई थी। 2017-18 के बजट में केंद्र सरकार ने प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड की बैठक में उनका मानदेय 17 हजार रुपये करने की सैद्धांतिक सहमति दी थी। इतना ही नहीं केंद्र सरकार ने इसकी पहली किश्त भी जारी कर दी। लेकिन 11 महीने बीत जाने के बावजूद प्रदेश सरकार ने शासनादेश जारी नहीं किया और अब भी अनुदेशकों को सिर्फ 8470 रुपये मानदेय ही मिल रहा है।

इतना ही नहीं प्रदेश सरकार 2018-19 के बजट और 51वीं वार्षिक कार्य योजना के लिए 9800 रुपये का प्रस्ताव भेज रही है। अनुदेशकों की मांग है कि उनको 17 हजार रुपये मानदेय देने का आदेश तत्काल राज्य सरकार की तरफ से जारी किया जाए। इस दौरान अनिल कुमार यादव, अभिषेक गुप्ता, अमिताभ वर्मा, प्रियंक कुमार मिश्र, मो फैसल, नीरज कुमार पाण्डेय, महेंद्र पाठक समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper