अनोखा ज्वालामुखी जिससे निकलता है नीले रंग का लावा

हमारी दुनिया रहस्यों से भरी हुई है, हर दिन हम कुछ ऐसे दृश्यों को देखते है जिन्हें हम पहली नजर में खुद को आश्वस्त नहीं करते हैं। ऐसे ही पर एक ज्वाला मुखी है जिसके बारे मे विश्वास करना असभंव सा लगता है। वैसे तो धरती पर कई ज्वालामुखी हैं लेकिन क्या आपने कभी ज्वालामुखी के नीले लावा के फटने के बारे में सुना है। हां, हमने अक्सर टीवी और किताबों में ज्वालामुखियों को देखा है, लेकिन कई लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने ज्वालामुखी को करीब से देखा है या आसपास रहते हैं। अगर आप भी नीले लावा को ज्वालामुखी से निकलते हुए देखना चाहते हैं तो आपको इंडोनेशिया जाना होगा। जहाँ आपकी कल्पना हकीकत मे बदल जाएगी। आइए इस ज्वालामुखी के बारे मे जानते है…

यह अद्भुत ज्वालामुखी इंडोनेशिया में है

इंडोनेशिया में एक ज्वालामुखी है जिसका लावा नीले रंग का बहता है। जैसे ही हम ज्वालामुखी का नाम सुनते हैं, हमारे दिमाग में एक लाल तस्वीर दिखाई देने लगती है, लेकिन इंडोनेशिया के बनुआंगी में स्थित कावा एजन ज्वालामुखी अपने आप में दुनिया का सबसे अनोखा ज्वालामुखी है।

साइंस फिक्शन फिल्म की तरह दिखने वाला यह ज्वालामुखी सालों से वैज्ञानिकों के लिए शोध का विषय रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस ज्वालामुखी से नीला लावा निकलता है।

रोशनी नही लावा

पेरिस स्थित फोटोग्राफर ओलिवियर ग्रुएनवाल्ड पिछले कई वर्षों से कावा यूजीन ज्वालामुखी पर वृत्तचित्र बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि ज्वालामुखी से निकलने वाली नीली रोशनी लावा नहीं है। ओलिवियर ग्रुएनवाल्ड ने कहा के अनुसार वास्तव में यह सल्फ्यूरिक गैसों के जलने से उत्पन्न प्रकाश है जो वातावरण में ऑक्सीजन के संपर्क में आते ही नीली आग की तरह दिखाई देता है। यह लावा आग की तरह खतरनाक है और इसमें किसी भी वस्तु को जलाने की क्षमता है।

ज्वालामुखी को ब्लू फायर क्रेटर के रूप में जाना जाता है

ओलिवियर ग्रुनवेल्ड आगे बताते हैं कि जब कुछ गैसें तरल सल्फर के रूप में एक ज्वालामुखी से निकलती हैं, तो यह जलने के कारण नीला दिखाई देती है। यह हमारे मन में लावा जैसे प्रवाह का भ्रम पैदा करता है। कावा ईगल ज्वालामुखी को ब्लू फायर क्रेटर के रूप में भी जाना जाता है। इसका नीला लावा विशेष रूप से रात में देखा जा सकता है। यह ज्वालामुखी हमारे ग्रह और ज्वालामुखी के बाकी हिस्सों से थोड़ा अलग है।

दूसरी दुनिया में आने का अनुभव

राहत की बात यह है कि ज्वालामुखी एक द्वीप की तरह है जो आबादी से बहुत दूर है हालांकि जब लोगों को इस ज्वालामुखी के बारे में पता चला तो कई लोग इसे देखने के लिए आने लगे। अब यह एक पर्यटन स्थल भी बन गया है लेकिन ज्वालामुखी तक पहुंचना इतना आसान नहीं है।

इस ज्वालामुखी के करीब पहुंचना खतरे से खाली नहीं है क्योंकि इससे निकलने वाली जहरीली गैस मौत का कारण बन सकती है। इतने खतरनाक होने के बावजूद, कई लोग यहां आते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि वे दूसरी दुनिया में आए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper