अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान, घुसपैठ की नईं साजिश में है लिप्त

नई दिल्ली। पाकिस्तान एक बार फिर एलओसी पर संघर्ष विराम का उल्लंघन कराने की कोशिशों में लगा है, वहीं दूसरी तरफ वह भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भी घुसपैठ के लिए अपनी नजर गड़ाए हुए हैं। बीएसएफ के सूत्रों से जानकारी मिली है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईंएसआईं घुसपैठ कराने के लिए जम्मू-कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के उस पार कईं जगहों पर डबल डेकर बंकर बनाने में जुटा हुआ है।

सूत्रों ने जानकारी दी है कि पाकिस्तान इस तरीके के बंकर बनाकर आतंकियों इन बंकरों में छिपाने की फिराक में है वहीं अगर आतंकी घुसपैठ करने में नाकाम रहते हैं तो इनको वैसे बचाया जाए उसकी भी पूरी कोशिश पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईंएसआईं और पाक रेंजर्स कर रहे हैं। सूत्रों ने जानकारी दी है कि इस तरीके की घुसपैठ के लिए और घुसपैठ के दौरान आतंकियों को कवर फायर देने के लिए पाकिस्तान रेंजर्स ने जम्मू-कश्मीर की अंतरराष्ट्रीय सीमा के उस पार सुखमल में करीब तीन दर्जन से ज्यादा डबल डेकर बंकर तैयार कर लिए हैं। साथ ही और भी बंकर बनाने की कोशिश में जुटा हुआ है।

बुंदेलखंड में आसान नहीं भाजपा की डगर

सूत्रों ने जानकारी दी है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा से इन बंकरों की दूरी महज 600 मीटर है यानी कि आतंकी अब पाकिस्तान की शह पर अंतरराष्ट्रीय सीमा के 600 मीटर दूरी तक आ कर सकते हैं। हालांकि बीएसएफ इस तरीके के पाकिस्तान के कंस्ट्रक्शन पर नजर रखे हुए हैं। हाल ही में बीएसएफ ने इस बाबत एक रिपोर्ट गृह मंत्रालय को दी है। जिसमें जानकारी दी गईं है कि पाकिस्तान किस तरीके से क्रीट बंकर बनाने में जुड़ा हुआ है।रिपोर्ट में यह भी जानकारी दी गईं है कि पाकिस्तान सिर्प बंकर ही नहीं बना रहा बल्कि मिट्टी के बड़े-बड़े बांध बनाकर आतंकियों को छिपाने और उनको बीएसएफ की गोली से बचाने में जुटा हुआ है। पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कईं जगह डबल डेकर बंकर बना रहा है।

आतंकी घुसपैठ के दौरान कवर फायर देने के लिए पाक ऐसे 3 दर्जन से ज्यादा बंकर बना रहा है। बीएसएफ सूत्रों की ये बड़ी खबर आजतक के हाथ लगी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper