अपने पार्टनर को न लें हल्के में बल्कि उसे समझें, शादी को मजबूत और रोमांचक बनाना जरूरी : बिद्या बालन

मुम्बई। शादी के रिश्ते हमेशा पति-पत्नी की बुनियाद पर टिके होते हैं। साथी से प्यार करना हर सभी की प्राथमिकता होती है। रिश्ते में भावनात्मक और शारीरिक जुड़ाव बना रहे इसको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यहीं दो दिलों के टूटने का कारण बनते हैं। पति-पत्नी का रिश्ता भी गिव एंड टेक के फंडे पर आधारित है। दोनों में एडजस्टमेंट और सेटलमेंट न हो रिश्ता खतरे में पड़ना लाजमी है। एक साक्षात्कार में विद्या बालन ने अपनी शादीशुदा जिंदगी के बारे में बताया कि शादी को चलाने के लिए बहुत सारे काम शामिल हैं। शादी के बाद आप उस व्यक्ति के साथ रहते हैं, जिसके साथ आप बड़े नहीं हुए हैं। इसलिए अपने पार्टनर को हल्के में किसी भी स्थिति में नहीं लें। बिद्या ने बताया कि वह इन आठ सालों में यही सीखा है कि शादी को निभाने के लिए एक-दूसरे को समझने का प्रयास करें, ना कि एक-दूसरे को हल्के में लें। विद्या ने कहा कि यदि आप शादी को अच्छे से निभा नहीं पाते हैं तो यह रिश्ता बोझिल हो जाता है।

शादी को मजबूत और रोमांचक बनाए रखने के लिए जरूरी है। विद्या ने बताया कि शादी को खूबसूरत बनाना चाहते हैं तो शादी के शुरुआती दिनों को कभी न भूलें। उसका आनन्द उठायें। पति-पत्नी दोनों को यह कभी भी यह नहीं भूलना चाहिए कि जिम्मेदारियां आपसे ही हैं। रिश्तों को सींचने के लिए भी अतिरिक्त प्यार और देखभाल की जरूरत होती है, अगर आप अपनी पत्नी से उनका 100 फीसदी चाहते हैं तो आपको सबसे पहले उनका अच्छा पति बनना होगा। यही बात दोनों के लिए लागू होती है।

bidya balan 1

पति-पत्नी दोनांे को एक-दूसरे की पसन्द का ख्याल रखना चाहिए। शादी और हनीमून के बाद ज्यादातर जोड़े अचानक से अपने पुरानी लाइफस्टाइल उदास होने लगते हैं। शादीशुदा जिम्मेदारियों को निभाते हुए भी रोमांस को बरकरार रखना जरूरी है। हमेशा उमंग बनाए रखने के लिए कपल्स को हनीमून जैसे ही कुछ न कुछ नए प्रयोग करते रहने चाहिए, जिससे रिश्ते में ताजगी होनी चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper