अपराधियों की कठपुतली बन कर रह गयी राज्य सरकार : सपा

लखनऊ: सपा विधान मंडल दल के सदस्यों ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह पंगु होकर अपराधियों और अराजक तत्वों की कठपुतली बनकर रह गयी है, अपराधी जैसा चाह रहे हैं, वैसा कर रहे हैं।विधान सभा के सेंट्रल हाल में बुधवार को पत्रकारों से सपा विधान मंडल दल के उप नेता इकबाल महमूद, उप मुख्य सचेतक शैलेन्द्र यादव ललई और मुख्य सचेतक नरेन्द्र सिंह वर्मा ने कहा कि प्रदेश में अपराधियों के हौंसले पूरी तरह से बुलन्द हैं। प्रदेश में लूट, डकैती, हत्या, बलात्कार, चैन स्नैचिंग की घटनाएं निरन्तर बढ़ती जा रही हैं।

यहां तक कि कानून व्यवस्था के रक्षक पुलिस के अधिकारी भी सुरक्षित नहीं हैं। अपराधियों को लगातार संरक्षण दिया जा रहा है। कुछ लोग समाज में अराजकता का माहौल फैलाने का कार्य कर रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण 3 दिसम्बरको बुलन्दशहर के थाना स्याना कोतवाली पुलिस चौकी चिंगराठी की घटना है जो एक सुनियोचित तरीके से कथित गौ हत्या के नाम पर भारतीय जनता पार्टी की सह संस्था बजरंग दल के कार्यकर्ताओं द्वारा घटित की गयी। सपा सदस्यों ने कहा कि इंसपेक्टर सुबोध कुमार सिंह को 26 अगस्त 18 को थाना स्याना सौंपा गया था।

बिना किसी दबाव के निष्पक्ष कार्यवाही करने के कारण तीन माह में ही वह लोकप्रिय हो गये, लेकिन कुछ अराजक तत्वों में बेचैनी बढ़ गयी। एक दिसम्बर 18 को भाजपा सांसद को पत्र लिखा गया कि सुबोध सिंह हिंदू धार्मिक कायरे में अड़चन पैदा कर रहे हैं और क्षेत्र में चोरी, अवैध कटान बढ़ती जा रही है। वह अभद्र व्यवहार करते हैं, अत: उन्हें हटाया जाये। यह पत्र एसपी को भेजा गया, लेकिन कोई कार्रवाई होते न देखकर 6 दिसम्बरके पूर्व साम्प्रदायिक दंगे का षडयंत्र रचा गया। सपा सदस्यों ने कहा कि पूरे प्रदेश में अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। लेकिन सरकार इन घटनाओं को रोकने में पूरी तरह से अक्षम साबित हो रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper