अफसरोंं की घटिया कार्यप्रणाली के चलते बदबूदार पानी पीने को मजबूर बाबापुरवा के लोग

लखनऊ: पूरे विश्व के लिये जल प्रदूषण एक बड़ा पर्यावरणीय और सामाजिक मुद्दा है। ये अपने चरम बिंदु पर पहुंच चुका है। मानव अस्तित्व के लिए पानी सबसे जरूरी है लेकिन, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का एक क्षेत्र जल प्रदूषण से जूझ रहा है। राजधानी लखनऊ के निशातगंज के बाबापुरवा इलाके के निवासी नगर निगम के अफसरोंं की घटिया कार्यप्रणाली के कारण सीवरेज युक्त गंदा बदबूदार पानी पीने को मजबूर हैं। लोगों का आरोप है कि पिछले दो सप्ताह से पीने वाला पानी बेहद गंदा बदबूदार होने के कारण हालात यह बन चुके हैं कि पानी पीना तो दूर उस पानी के साथ सफाई करना भी मुश्किल हो गया है।

बीमारियां फैलने का डर

बाबापुरवा के निवासियों का कहना है कि करीब दो सप्ताह से गंदे पानी की सप्लाई हो रही है। पानी से गंदगी की बदबू आती है। समस्या का समाधान न होने से लोगाें को यही पानी उपयोग करना पड़ रहा है। कुछ लोग छानकर तो कुछ अन्य तरीकों से मजबूरी में गंदा पानी प्रयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि यही हाल चलता रहा तो लोग बीमारियाें का शिकार हो जाएंगे। वहीं, कई महिलाओं ने कहा कि घर में प्रत्येक काम के लिए पानी की जरूरत पड़ती है। बढ़ती गर्मी के चलते पानी की और अधिक आवश्यकता होती है। गंदे पानी की सप्लाई की वजह से उन्हें दिनभर दूसरों के यहां घरों में पानी के लिए खड़ा रहना पड़ता है।

नहीं सुन रहा पार्षद

निवासियों का कहना है कि दूषित पेयजल को लेकर उन्होंने इलाके के पार्षद से इसकी शिकायत की लेकिन पार्षद कुछ करने के बजाय केवल गोलमोल जवाब दे रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper