अब अपनी दुकान पर भगवान की फोटो लगाकर सब्जी- फल बेच रहे दुकानदार , पुलिस ने दर्ज की FIR

जमशेदपुर । देश में कोरोना महामारी के बीच कई ऐसे वीडियो भी सामने आए , जिसमें कुछ फलों – सब्जियों के विक्रेताओं को सामान पर थूककर या पेशाब करके बेचने का आरोपी बताकर, उनकी पिटाई की जा रही है । इस सबके बीच झारखंड के जमशेदपुर में पुलिस ने कुछ ऐसे फल दुकानदारों के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए हैं, जिन्होंने ‘विश्व हिंदू परिषद् द्वारा अनुमोदित फल दुकान’ के बैनर लगाए थे । जमशेदपुर पुलिस का मानना है कि दुकानदारों के खिलाफ ‘हिंदू’ शब्द लिखने के खिलाफ केस दर्ज किए गए हैं क्योंकि यह सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने की एक कोशिश है ।

बता दें कि पिछले दिनों कुछ ऐसे वीडियो सामने आए , जिसमें बाद समुदाय विशेष के लोगों से फल सब्जियां खरीदना कम हुआ है । इस सबके बीच जमशेदपुर में कुछ फल दुकानदारों ने अपनी दुकान के बाहर देवी देवताओं के फोटो लगाकर कुछ बैनर लगाई हैं । इन बैनरों में दुकानदारों के पते दर्ज हैं । साथ ही विश्व हिंदू परिषद की ओर से अनुमोदित हिंदू फल दुकानदार लिखा हुआ है ।

इलाके में दुकानों पर ऐसे बैनरों की तादाद बढ़ती नजर आई । हाल के दिनों में तेजी से बढ़ी है । दुकानदारों का कहना है कि पिछले दिनों कुछ ऐसे वीडियो वायरस हुए हैं , जिसमें लोगों को पीटा जा रहा है और उनपर आरोप लगे हैं कि वो फलों सब्जियों पर थूक रहे हैं और पेशाब करके बेच रहे हैं । इस सबके बाद लोगों ने सामान खरीदना बंद कर दिया था । ऐसे हालात में हमें इस तरह के बैनर लगवाने पड़े हैं ताकि लोग हमसे सामान खरीद सकें ।

वहीं ऐसे दुकानदारों और ठेले वालों के खिलाफ मुकदमे दर्ज करने को पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गलत बताया है । उन्होंने पुलिस की इस कार्रवाई को तुष्टिकरण की नीति बताते हुए हेमंत सोरेन सरकार की आलोचना की है ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper