अब आकांक्षाओं पर खरा उतरने का समय

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व कार्यवाहक मुख्यमंत्री एवं इंडिया माइनॉरटीज फोरम फॉर डेमोक्रेसी के अध्यक्ष अम्मार रिजवी ने राजनाथ सिंह को उनकी बड़ी जीत के लिए बधाई देते हुए कहा कि करीब डेढ़ महीने पहले उन्होंने राजनाथ सिंह को अपना पूरा समर्थन देने की घोषणा की थी। फोरम का मानना रहा है कि लखनऊ के लिए राजनाथ सिंह से बेहतर कोई सांसद नहीं हो सकता। इसीलिए राजनाथ को अल्पसंख्यकों के हर वर्ग से समर्थन मिला।

रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देते हुए कहा कि इस ऐतिहासिक जीत का पूरा श्रेय मोदी जी को ही जाता है। मोदी ने जनता की समस्याओं को दूर किया, जिससे उन्हें लोगों ने अपना वोट दिया और ऐतिहासिक जीत हुई। इसके अलावा भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी जमकर काम किया और आम आदमी तक सरकार की योजनाओं को पहुंचाया।

इसके लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह बधाई के पात्र हैं। रिजवी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी को लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरना होगा। क्योंकि बुलंदियों पर पहुंचना आसान होता है, लेकिन उस पर बरकरार रह पाना काफी मुश्किल होता है। इसीलिए पीएम मोदी को पहले से ज्यादा काम करना होगा। अगर मोदी लोगों के भरोसे पर खरे नहीं उतरते, तो उन्हें इसका नुकसान भी उठाना पड़ सकता है।

रिजवी ने कहा कि विपक्ष के हारने की मुख्य वजह यह रही कि उसने व्यक्तिगत बातों पर ज्यादा बल दिया और अपशब्दों का प्रयोग किया। विपक्षी दलों की इस तरह की राजनीति को जनता ने नकार दिया। इस बार उसी बात को दोहराया गया, जब 1977 में विपक्षी दलों ने इंदिरा गांधी के खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग किया था, तो जनता ने गुस्सा जताया था। और ढाई साल बाद इंदिरा गांधी की सत्ता में वापसी हो गई थी।

अम्मार रिजवी ने कहा कि यूपी कांग्रेस कमेटी ने पार्टी हाईकमान को गुमराह करने का काम किया। जमीनी कार्यकर्ताओं को अपमानित किया गया। सालों से कांग्रेस की सेवा करने वाले कार्यकर्ताओं को तवज्जो न देकर बाहर से नेताओं को लाकर बैठाया गया। कांग्रेस ने यह लड़ाई किराए के सिपाहियों से जीतनी चाही, जिसका उसे खामियाजा भुगतना पड़ा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper